विज्ञापन

प्राकृतिक आपदाओं से वित्तीय संकट में भारत

Market Updated Thu, 16 Aug 2012 12:00 PM IST
india-at-greater-financial-risk-from-natural-disasters
ख़बर सुनें
ब्रिटेन की एक रिस्क कंसल्टेंसी ने अपने अध्ययन में दावा किया है कि भारत और फिलिपिंस समेत एशिया में आर्थिक शक्ति के रूप में उभर रहे देश प्राकृतिक आपदाओं के कारण वित्तीय संकट का सामना करते हैं। कंसल्टेंसी की ओर से जारी शीर्ष दस देशों की सूची में भारत को पांचवे स्थान पर रखा गया है।
विज्ञापन
विज्ञापन
ब्रिटिश कंसल्टेंसी मैप्लेक्रॉफ्ट ने 197 देशों पर किए गए विश्लेषण के आधार पर नेचुरल हैजार्ड्स रिलेटिव इकोनॉमिक एक्सपोजर इंडेक्स जारी किया है। इसमें बताया गया है कि भारत के कई इलाके सूखे की चपेट में हैं, जिसके कारण कृषि क्षेत्र में उत्पादन पर इसका बुरा प्रभाव पड़ा है।

अध्ययन के अनुसार बांग्लादेश, फिलिपिंस, डोमेनिकन रिपब्लिक, म्यांमार, वियतनाम, होंडुरास, लॉओस, हैती और निकारगुआ उन देशों की श्रेणी में हैं, जिनमें अत्यधिक आर्थिक गतिविधियों के कारण बाढ़, भूकंप और तूफान आते हैं।

मैप्लेक्रॉफ्ट के अनुसार अत्यधिक आर्थिक गतिविधियों और संसाधनों के दुरुपयोग का सीधा असर इन देशों में प्राकृतिक आपदाओं के रूप में दिख सकता है। जापान, अमेरिका, ताईवान और मैक्सिको आर्थिक विकास के लिए हुए बदलावों के कारण सबसे अधिक प्राकृतिक आपदाओं का शिकार हुए हैं।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

महाआरती में शंखध्वनि के साथ गूंजे मातारानी के जयकारे

भगवती मानव कल्याण संगठन एवं पंचज्योति शक्तितीर्थ सिद्धाश्रम ट्रस्ट के संयुक्त तत्वावधान में रविवार को आयोजित भव्य महाआरती में शंखध्वनि के साथ मातारानी के जयकारे गूंजे। इस दौरान भक्तों ने नशा व मांसाहार मुक्त जीवन जीने का संकल्प लिया।

16 दिसंबर 2018

विज्ञापन

प्लेन में ‘डायमंड’ लगे देखकर चौंके लोग, जानिए असली हकीकत

डायमंड लगे  इस प्लेन को देखकर लोग चौंक गए हैं। सोशल मीडिया पर तरह तरह के कमेंट्स कर रहे हैं, क्या है इसकी हकीकत जानिए

7 दिसंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree