शुल्क वृद्धि पर आईएटीए नाराज

Corporate Updated Tue, 12 Jun 2012 12:00 PM IST
IATA-angry-over-fee-hike
ख़बर सुनें
दिल्ली के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के शुल्क में हाल में की गई भारी बढ़ोतरी और देश में नए हवाई अड्डे बनाने व सुविधाओं के विकास में धीमेपन को लेकर विमानन उद्योग से जुड़ी अंतरराष्ट्रीय संस्था इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट ऐसोसिएशन (आईएटीए) ने सरकार को आड़े हाथों लिया। आईएटीए ने कहा कि शुल्क में की गई बढ़ोतरी निश्चित तौर पर ‘अस्वीकार्य’ है।
देश की अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए सरकार को ऐसे कदम उठाने के बजाय विमानन उद्योग को बढ़ावा देना चाहिए। आईएटीए के महानिदेशक व सीईओ टोनी टेलर ने कहा कि भारतीय हवाई अड्डा नियामक ने शुल्क में 346 फीसदी की भारी-भरकम बढ़ोतरी की जो मंजूरी दी है, वह पूरी तरह अस्वीकार्य है।

दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (डीआईएएल) को अपने राजस्व का 46 फीसदी हिस्सा सरकार को देना पड़ता है। यह न तो हवाई अड्डे के लिए अच्छा है, न ही एयरलाइंस के हित में है। टोनी ने यह बाता आईएटीए की वार्षिक आम बैठक को संबोधित करते हुए कही। वहीं, जेट एयरवेज के प्रमुख नरेश गोयल ने कहा है कि भारत में हवाई किराया चीन और अन्य देशों के मुकाबले करीब 300 फीसदी अधिक है। ऐसा करों के भारी-भरकम बोझ के चलते है।

इसी वजह से देश में एयरलाइन उद्योग की प्रगति नहीं हो पा रही है। गोयल ने कहा कि करों की दर इतनी ही ऊंची रही, तो भारतीय विमानन उद्योग प्रगति नहीं करेगा। चीनी विमानन कंपनियों का किराया भारतीय विमानन कंपनियों के मुकाबले एक तिहाई है, क्योंकि यहां कोई कर नहीं है। भारत दुनिया में इकलौता देश है जो अपनी विमानन कंपनियों पर सेवा कर लगाता है।

Spotlight

Related Videos

‘हेलो फ्रेंड्स’ वाली आंटी का हर अंदाज देखिए

हैलो फ्रेंड्स चाय पी लो, ये लाइन बीते कुछ दिनों में आपने कई बार सुनी होगी। इस एक लाइन से चाय पीने वाली आंटी फेमस हो गई। हम आपको चाय वाली आंटी का हर अंदाज दिखाएंगे।

23 जून 2018

Recommended

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen