विज्ञापन

औद्योगिक संगठनों को ठेंगा दिखाएगी सरकार

Corporate Updated Mon, 11 Jun 2012 12:00 PM IST
Industrial-organizations-show-thumbs
विज्ञापन
ख़बर सुनें
रियल ईस्टेट विधेयक के मसौदे में बदलाव के लिए औद्योगिक संगठन सरकार की दहलीज पर चाहे जितना सिर पटक लें, केंद्र इस बिल को जस का तस संसद में पेश करके इन संगठनों को ठेंगा दिखाएगी। सरकार घर खरीदने वालों को नुकसान पहुंचाने की नीयत रखने वालों को कोई मौका देने के मूड में नहीं है।
विज्ञापन
आवास एवं शहरी गरीबी उन्मूलन मंत्रालय और कानून मंत्रालय ने प्रमुख औद्योगिक संगठनों की मांग के पूरी तरह से खिलाफ हैं। मंत्रालयों की मानें, तो उपभोक्ताओं के हित को ध्यान में रखकर तैयार किए गए इस विधेयक के मसौदे में यदि कोई बदलाव चाहता है तो स्पष्ट हो जाता है कि वह सिर्फ अपने फायदे की सोच रहा है।

सरकार ने रियल ईस्टेट डेवलपरों पर लगाम कसने के लिए ही इस विधेयक के मसौदे को 2011 में तैयार किया था। कानून मंत्रालय ने मसौदे पर अपनी मुहर लगाते हुए साफ कर दिया था कि रीयल ईस्टेट के विकास से जुड़े हर पहलू और पक्षों के हितों की सुरक्षा के यह कानून बहुत लाभकारी होगा।

हाल ही में सीआईआई, एसओचैम और फिक्की ने इस विधेयक के मसौदे में बदलाव की मांग की थी। जिसे सरकार ने नजरअंदाज कर दिया। सरकार ने हां और न, किसी भी तरह का जवाब इन संगठनों को महज इसलिए नहीं दिया क्योंकि वह इस मसले को तूल देने की बजाय विधेयक को जल्द से जल्द संसद में पेश करने के पक्ष में है।

वहीं संगठनों की मानें, तो इस विधेयक में प्रायोगिक तौर पर कई खामियां है जो इस क्षेत्र की कंपनियों की ही नहीं, बल्कि लोगों की परेशानी का कारण भी बन सकती हैं। जबकि मसौदा तैयार किए जाने के दौरान आवास एवं शहरी गरीबी उन्मूलन मंत्रालय यह पहले ही स्पष्ट कर चुका है कि विधेयक में जमीन-जायदाद के विकास से जुड़ी कंपनियों और सभी पक्षों के हितों का ध्यान रखा गया है।

सूत्रों के अनुसार कानून मंत्रालय इस मामले में साफ कह चुका है कि यह विधेयक आवास क्षेत्र में सुधार का रास्ता साफ करेगा। इस विधेयक का मकसद है महज इतना है कि जमीन-जायदाद संपत्ति लोगों को आसानी से उपलब्ध हो। यदि इससे किसी को परेशानी होती है तो यह कहना गलत नहीं होगा कि वह अपने पक्ष का हित देख रहा है जो दूसरों के नुकसान का कारण भी बन सकता है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

‘मोदी का जादू बरकरार’

हरदोई लोकसभा क्षेत्र की कमल संदेश बाइक रैली में शामिल हुए प्रदेश उपाध्यक्ष जेपीएस बोले

17 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

सत्ता का सेमीफाइनल : क्या कहती है हरदा की जनता?

सत्ता के सेमीफाइनल में अमर उजाला डॉट कॉम की टीम पहुंची हरदा। जहां जनता ने गिनवाई अपनी परेशानी और जनप्रतिनिधियों ने दिए उनके जवाब।

18 नवंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree