बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

...तो 2020 तक नदारद हो जाएगा फेसबुक!

Corporate Updated Wed, 06 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
Facebook-will-end-by-2020

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
नेस्डैक में काफी धमाकेदार लिस्टिंग के बाद सोशल नेटवर्किंग साइट चलाने वाली कंपनी फेसबुक के शेयरों में जिस तरह से गिरावट जारी है, उससे भविष्य में उसके अस्तित्व को लेकर ही सवाल उठने लगे हैं। कंपनी के शेयरों में लगातार गिरावट के बाद एक हेज फंड मैनेजर ने भविष्यवाणी की है कि फेसबुक अगले 5 से 8 साल में नदारद हो जाएगी।
विज्ञापन


आयरनफायर कैपिटल के संस्थापक एरिक जैक्सन के मुताबिक 5 से 8 साल में फेसबुक उसी तरह गायब हो जाएगा जिस तरह याहू गायब हो गया था। उन्होंने कहा, हालांकि याहू अब भी पैसे बना रहा है। यह अब भी मुनाफे में है और अब भी 13,000 कर्मचारी काम कर रहे हैं। लेकिन 2000 में जब वह अपने चरम पर था, आज उसके मुकाबले आज उसका आकार महज 10 फीसदी रह गया है। जैक्सन के मुताबिक दुनिया में इंटरनेट कंपनियों के कारोबार और विस्तार को मुख्य रूप से तीन चरणों में बांट कर देखा जा सकता है।


पहले दौर में वेब पोर्टल याहू ऑनलाइन कंपनियों में अग्रणी रही। उसके बाद दूसरे दौर में सोशल मीडिया की लहर के साथ फेसबुक ने शिखर पर कब्जा किया। आने वाला तीसरा दौर मोबाइल पर इंटरनेट के उपयोग का है क्योंकि आज की पीढ़ी इंटरनेट का इस्तेमाल मोबाइल पर ही करना ज्यादा पसंद कर रही है। ऐसे में मोबाइल एप्लीकेशंस और इससे जुड़ी सुविधाएं उपलब्ध कराने वाली कंपनियों का भविष्य इस दौर में बेहतर दिख रहा है। ऐसी ही कोई कंपनी आने वाले दिनों में फेसबुक का स्थान ले सकती है।

गौरतलब है कि फरवरी में फेसबुक के आइपीओ लांच के पहले वर्ष 2011 के दिसंबर में फेसबुक के 425 मिलियन मोबाइल यूजर्स हुआ करते थे, लेकिन इन दिनों बाजार में फेसबुक के शेयरों में गिरावट के साथ-साथ इसके मोबइल यूजर्स भी कम होते जा रहे हैं। यही नहीं, फेसबुक ने मोबाइल यूजर्स के लिए कुछ ऐसे एप्लीकेशंस डाल दिए हैं, जो यूजर्स के लिए आसान नहीं है। कंपनी चाहे तो कई मोबाइल एप्लीकेशंस की कंपनियां खरीद सकती हैं, लेकिन यूएस सिक्योरिटी के चलते ऐसा नहीं कर पा रही है, यहीं कारण है कि कंपनी इतनी पिछड़ रही है।

ऐसी स्थिति में जहां एक ओर गूगल को फिर से चमकने का मौका नजर आने लगा है, वहीं अगले कुछेक वर्षों में फेसबुक की जगह किसी दूसरी कंपनी के इटरनेट की दुनिया का सरताज बन जाने के आसार भी बनते नजर आ हरे हैं। जाहिर है कि ऐसे में फेसबुक को सोशल नेटवर्किंग की दुनिया में अपनी पहचान बनाए रखने के लिए कई कड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा।

फेसबुक की बर्बादी की 5 बड़ी वजहें

1. कंपनी की घटती साखः शेयर बाजार में फेसबुक को पड़ रही मार कंपनी की साख को बुरी तरह प्रभावित कर रही है। स्टॉक मार्केट में 42 डॉलर से शुरू हुए फेसबुक शेयर की कीमत 25.87 डॉलर तक गिर चुकी है। अपने दोस्तों और करीबियों को धोखा देने के अरोपों के चलते इसके मालिक मार्क जुकरबर्ग की छवि भी इस दौरान काफी खराब हुई है।

2. हावी होती थर्ड जनरेशनः वेब एक्सपर्ट्स की माने तो मोबाइल यूजर्स के रूप में थर्ड जनरेशन फेसबुक के लिए दूसरा सबसे बड़ा खतरा है।

3. अधिग्रहण के सौदे न पटनाः जानकारों के अनुसार मार्क जुकरबर्ग फेसबुक की दुनिया के प्रसार के लिए मोबाइल फोन कंपनियां खरीदने के प्रयास में हैं, लेकिन उनके लिए यह अब भी बड़ी चुनौती है। यह वेबसाइट और फेसबुक एप्प से काफी अलग है।

4. बदलाव में धीमे रह जानाः जिस तेजी से दुनियाभर में मोबाइल यूजर्स बढ़े हैं, फेसबुक उस तेजी से खुद को मोबाइल के अनुरूप ढाल नहीं पा रही है।

5. गोपनीयता पर उठते सवालः फेसबुक यूजर्स की निजी और गोपनीय जानकारियों के लीक होने की खबरें इन दिनों बढ़ती ही जा रही हैं। खुद कंपनी के मालिक जुकरबर्ग तक इसका शिकार हो चुके हैं। ऐसे में यूजर्स इससे दूरियां बना सकते हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us