रुपये का गिरना नहीं रोक सकते

Banking-Insurance Updated Fri, 01 Jun 2012 12:00 PM IST
Can-not-stop-falling-rupee-RBI-raised-hand
ख़बर सुनें
रिजर्व बैंक ने कहा है कि यदि कमजोर बुनियादी या वैश्विक कारणों के चलते रुपये में गिरावट में आ रही है तो वह इसे नहीं रोक सकता है।
रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर केसी चक्रवर्ती ने कहा कि यदि रुपये में बुनियादी कमजोरी की वजह से गिरावट आ रही है तो सरकार को व्यापार घाटे की समस्याओं को दूर करने पर ध्यान देना चाहिए। रुपये में गिरावट अर्थव्यवस्था की बुनियादी कमजोरी की वजह से आती है या वैश्विक कारणों के चलते ऐसा होता है तो आरबीआई इसमें कुछ नहीं कर सकता है।

उन्होंने कहा कि यदि रुपये में गिरावट अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में बनी स्थिति की वजह से आ रही है तो वित्तीय क्षेत्र में सुधार के उपायों से समस्या हल नहीं हो सकती है।

मालूम हो कि सभी प्रमुख मुद्राओं खास तौर पर अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये की कीमत में लगातार गिरावट आ रही है। अप्रैल से चल रहे गिरावट के दौर में अब डॉलर के मुकाबले रुपया 56 के स्तर से भी नीचे आ गया है।

डॉलर की मांग को रोकने और रुपये को साधने के लिए चक्रवर्ती ने संकेत दिया कि तेल कंपनियों के लिए अलग डॉलर विंडो की व्यवस्था की जाएगी। मालूम हो कि रुपये की गिरावट के बीच चर्चा है कि तेल कंपनियों के लिए एक अलग विंडो की व्यवस्था कर उन्हें डॉलर सीधे बेचे जा सकते हैं।

देश में तेल कंपनियां डॉलर की सबसे बड़ी उपभोक्ता हैं। इस तरह खुले बाजार से डॉलर की मांग का दबाव कम होगा। देश के आयात बिल में पिछले दशकों में तेल की बड़ी हिस्सेदारी रही है। वित्त वर्ष 2011-12 में कुल आयात बिल 488.6 अरब डॉलर रहा, जिसमें से 155.6 अरब डॉलर तेल के आयात पर खर्च किए गए।

इस बीच, चक्रवर्ती ने 16 जून को होने वाली मौद्रिक नीति की समीक्षा का जिक्र किए बिना यह भी कहा कि यदि मुद्रास्फीति नीचे आती है तो ब्याज दरें कम हो सकती हैं।

--रुपये की कमजोरी के वैसे आधारभूत कारण, जो रिजर्व बैंक की जद के बाहर हैं

-सबसे बड़ा कारण है बढ़ता आयात
कच्चे तेल के आयात में जा रहे हैं बेशुमार डॉलर। 2011-12 में देश के कुल आयात पर खर्च हुए करीब 489 अरब डॉलर। इसमें से 156 अरब डॉलर सिर्फ कच्चे तेल के आयात में गए।

-बढ़ रहा है देश का राजकोषीय घाटा
देश के राजकोषीय घाटे में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। वित्तवर्ष 2011-12 में इसका आकलन 4.6 फीसदी था, जो बढ़कर हो गया 5.76 फीसदी।

-घटता जा रहा है विदेशी निवेश
विकास दर में गिरावट और ढांचागत सुधार जैसे जीएसटी, रिटेल सहित अन्य क्षेत्रों में एफडीआई पर राजनीतिक निर्णय की अनिश्चितता के कारण देश में विदेशी निवेश का आना कम होता जा रहा है।

साल भर में आई 24 फीसदी की गिरावट
दुनिया की प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले रुपया कमजोर हो रहा है, लेकिन सबसे अधिक गिरावट अमेरिकी डॉलर के सापेक्ष है। साल भर में इसमें करीब 24 फीसदी की गिरावट आ चुकी है।

Spotlight

Related Videos

रविवार को इस शुभ योग में करें कोई भी काम, नहीं आएगी अड़चन

रविवार को लग रहा है कौनसा नक्षत्र और बन रहा है कौनसा योग? दिन के किस पहर करें शुभ काम? जानिए यहां और देखिए पंचांग रविवार 24 जून 2018

23 जून 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen