कार बिक्री में बाधक बना महंगा पेट्रोल

Auto Market Updated Sat, 02 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
Expensive-petrol-car-sales-drag

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
पेट्रोल की बढ़ी हुई कीमतों और उत्पाद शुल्क में बढ़ोतरी ने मई में कार कंपनियों की बिक्री को करारी चोट पहुंचाई, जबकि डीजल गाड़ियों की बिक्री में बढ़त दर्ज की गई। बीते माह देश की सबसे बड़ी कार निर्माता मारुति से लेकर फोर्ड, जनरल मोटर तक की बिक्री में गिरावट आई है। हालांकि इस दौरान बहुउपयोगी वाहन बनाने वाली देश की सबसे बड़ी कंपनी महिंद्रा ने बिक्री में 28.2 फीसदी और टाटा मोटर्स ने 31 फीसदी की लंबी छलांग लगाई।
विज्ञापन

डीजल गाड़ियों में बढ़ा लोगों का इंटरेस्ट
प्रीमियम वर्ग की कारें बनाने वाली ऑडी की बिक्री में भी इजाफा हुआ। भारतीय कार बाजार में 45 प्रतिशत हिस्सेदारी रखने वाली देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति सुजुकी की बिक्री मई 2012 में 5.9 प्रतिशत घट गई। इसी तरह फोर्ड की बिक्री 14 फीसदी घटी, जबकि जनरल मोटर्स की बिक्री में 27 फीसदी की बड़ी गिरावट दर्ज की गई है। दूसरी ओर डीजल गाड़ियों की बिक्री में बढ़ोतरी के चलते महिंद्रा एंड महिंद्रा की बिक्री में 27 फीसदी का इजाफा हुआ है। टाटा मोटर्स ने भी नैनो की बिक्री में 31 फीसदी की बढ़ोतरी के चलते कुल छह प्रतिशत की वृद्धि हासिल की है।
मारुति को पड़ी दोहरी मार
मारुति सुजूकी की बिक्री मई में पांच प्रतिशत घट गई जबकि निर्यात में करीब 11 फीसदी की गिरावट रही। मई में बिक्री 98 हजार 884 रह गई, मई 2011 में एक कंपनी ने लाख 4 हजार 73 वाहन बेचे थे। आंकड़ों के अनुसार मई 2012 में घरेलू स्तर पर वाहनों की बिक्री 4.3 प्रतिशत घटकर 89 हजार 478 रह गई। मई 2011 में यह आंकड़ा 93 हजार 519 था। कंपनी का निर्यात भी इस दौरान 10.9 प्रतिशत घट कर 9,406 रह गया, जबकि मई 2011 में 10 हजार 554 गाड़िया विदेश भेजी गई थीं।

निर्यात के भरोसे बढ़ चली ह्यूंदे
देश की दूसरी सबसे बड़ी कार निर्माता ह्यूंदे ने बिक्री में 16.56 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की है, जोकि मुख्यत: निर्यात में में 42.2 फीसदी की जबर्दस्त बढ़ोतरी के चलते हासिल हुई है। कंपनी ने मई में 55,670 गाड़ियां बेचीं, जोकि पिछले साल मई में 47,762 के स्तर पर रही थी। घरेलू बाजार में कंपनी की बिक्री में महज 2.85 फीसदी की बढ़ोतरी रही। यह पिछले साल मई में 31,123 के मुकाबले 32,010 पर रही। मई में कंपनी ने 23,660 गाड़ियों का निर्यात किया। पिछले साल मई में 16,639 गाड़ियों का निर्यात हुआ था।

सही रास्ते चल पड़ी नैनो
टाटा मोटर्स अपनी बहुचर्चित छोटी कार नैनो की बिक्री में 31 प्रतिशत का इजाफा करने में कामयाब रही है। मई 2012 के दौरान 8,507 नैनो कारें बेची गईं जोकि मई 2011 की 6,515 की तुलना में 31 प्रतिशत अधिक है। कंपनी ने बताया कि मई 2012 में घरेलू बाजार में उसके वाहनों की बिक्री छह प्रतिशत की वृद्धि के साथ 60 हजार 129 रही, जबकि कुल बिक्री चार फीसदी बढ़कर 64 हजार 347 रही। मई 2011 में कंपनी ने 56 हजार 571 वाहन बेचे थे। मई में टाटा मोटर्स का निर्यात 24 प्रतिशत घटकर 4,219 वाहन रह गया। मई 2011 में 5,534 वाहन विदेश भेजे गए थे।

महिंद्रा ने लगाई 28 फीसदी की छलांग
महिंद्रा एंड महिंद्रा की मई 2012 में बिक्री 28.2 प्रतिशत की छलांग के साथ 43 हजार 988 वाहन हो गयी है। मई 2011 में यह आंकडा 34323 वाहनों का रहा था। मई 2012 के दौरान घरेलू स्तर पर वाहनों की बिक्री 24.2 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 39 हजार 939 हो गयी है। मई 2011 में कंपनी ने 32 हजार 159 वाहन बेचे थे1मई 2012 में मंहिद्रा एंड मंहिद्रा के वाहनों का निर्यात 87.2 प्रतिशत उछलकर 4050 वाहन हो गया है। मई 2011 में मात्र 2164 वाहन विदेश भेजे गए थे

ऑडी की भी मांग बढ़ी
लग्जरी कार बनाने वाली कंपनी ऑडी ने मई 2012 में 10 प्रतिशत अधिक 450 कारें बेची हैं। जनवरी से मई 2012 की अवधि में कंपनी की कारों की बिक्री में 37 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। इस अवधि में 3,281 कारें बेची गई हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us