मेष राशि के जातक का गुण, स्वभाव और व्यक्तित्व

Rakesh Jhaराकेश कुमार झा Updated Mon, 08 Oct 2018 06:06 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
राशियां किसी भी जातक के गुण, स्वभाव और व्यक्तित्व का दर्पण होती हैं। मेष राशि का स्वामी मंगल होता है। मंगल जीवन में पराक्रम और उत्साह का कारक होता है। यही कारण है कि इस राशि के जातक जीवन की नई ऊर्जा से भरे हुए रहते हैं।
विज्ञापन

अपनी शर्तों पर जीते हैं जीवन
मेष राशि के जातक तेजी से काम करने वाले, आशावादी और आत्मकेंद्रित होते हैं। राशि चक्र की प्रथम राशि होने के कारण ये शिशु की तरह मासूम होते हैं। इनका प्रतीक मेढ़ा होता है, जो निडर और साहसी होता है। इस राशि के जातक हमेशा अपना जीवन अपनी शर्तों पर जीना पसंद करते हैं। ऐसे जातक अपनी विचारधारा से समझौता नहीं करते हैं।
अक्सर टूट जाता है लय
मेष राशि के जातक किसी लक्ष्य को निर्धारित करने के पश्चात अति उत्साह के साथ उस पर कमर कसकर लग तो जाते हैं, लेकिन कार्य के प्रति अंत तक उत्साह नहीं बरकरार रख पाते हैं। नतीजतन, बहुत जल्दी अपनी रुचि खो देते हैं। ऐसे जातक बहुत लंबे समय तक किसी प्रोजेक्ट पर काम नहीं कर पाते हैं।

इस सकारात्मक पक्ष से बना रहता है आकर्षण  
मेष राशि के जातकों से जुड़ी अच्छी बात यह है कि ये अपनी निराशा और गुस्से को जल्दी भूल जाते हैं और फिर से एक मासूम बच्चे की तरह व्यवहार करने लगते हैं। ये भावुक होते हैं, इसलिए ये हर चीज की शक्तिशाली प्रतिक्रिया देतें हैं, लेकिन इनका मकसद गलत नहीं होता हैं। इनकी मासूमियत लोगो को आकर्षित करती है, लेकिन इनकी अधीरता और आवेग में आना भी इनकी विशेष पहचान होती है। ये करिश्माई, साहसी और दोस्ताना होते हैं। यदि ये धीरज रखना और कूटनीति सीख लें तो ये अनोखे नेता बन सकते हैं।

इस आदत के चलते होते हैं अलोचना के शिकार
यदि किसी कार्य या प्रोजेक्ट पर लंबे समय तक कार्य करना हो, तो अक्सर ये नाकाम साबित होते हैं, क्योंकि इनका मन जल्दी ही किसी काम से उचट जाता है। जो इनके कॅरिअर के विकास में बाधक बनता है। ये अपनी क्षमता से ज्यादा ग्रहण कर लेते हैं। चाहे ये उसका उपयोग कर सकें या ना कर सकें। इन्हे अपना प्रदर्शन अच्छा बनाए रखने के लिए हमेशा दूसरों की प्रेरणा की जरुरत पड़ती है। यदि ये अच्छा नहीं कर पाते हैं, तो दूसरों पर इल्जाम लगाते हैं कि उन्होने साथ नहीं दिया, जबकि यह इनका केवल बहाना होता है। ये आलसीपन और अनिच्छा की वजह से अपना काम नहीं कर पाते हैं।

जीवनसाथी से होती है बहुत अपेक्षा
हालांकि ये शुरु में रोमाटिंक नहीं होते हैं पर बाद में ये अपने प्यार की अमरता महसूस करने लगते हैं। ये एक अच्छे साथी साबित होते हैं, लेकिन ये अपने जीवन साथी से बहुत ज्यादा की उम्मीद लगा कर रखते हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X