असुरक्षित यौन संबध, न करें इस तरह की गलती

टीम डिजिटल/ अमर उजाला, दिल्ली Updated Sat, 05 Mar 2016 10:34 PM IST
Sexually transmitted diseases
ख़बर सुनें
असुरक्षित यौन संबंध बनाने के कारण हुए संक्रमण यानी यौनसंचारित रोगों का इलाज आसान है। लेकिन इसके लिए आपको उनका समय से इलाज कराना होगा। यहां, आपको यौनसंचारित रोगों के बारे में सभी जानकारी मिल सकती है। जानिए, असुरक्षित यौन संबध का मतलब क्या है? कंडोम के बिना किया जाने वाला सेक्स है क्या सुरक्षित हो सकता है? यौनसंचारित रोग (एसटीडी) और यौनसंचारित संक्रमण (एसटीआई) में क्या अंतर है? जानिए, ऐसी ही कई और चीजों के बार में।
यौनसंचारित रोग (एसटीडी) और यौनसंचारित संक्रमण (एसटीआई) में क्या अंतर है? आपको यौनसंचारित संक्रमण (एसटीआई) तब होता है, जब आप असुरक्षित सेक्स करते समय जीवाणु (बैक्टीरिया), विषाणु (वायरस) या परजीवी (पैरासाइट) द्वारा संक्रमित होते हैं। जब संक्रमण बढ़कर ऐसा रूप ले लेता है जिससे आपके लिंग या योनि से असामान्य स्राव होने जैसे लक्षण होने लगते हैं, तो कहा जाता है कि आपको यौनसंचारित रोग (एसटीडी) हो गया है।

आमतौर पर कहा जाए तो एसटीआई और एसटीडी में अंतर केवल लक्षण का है। दोनों ही स्थितियों में आप संक्रमित होते हैं और किसी दूसरे को संक्रमित कर सकते हैं। आसानी से समझने के लिए लव मैटर्स में हम एसटीडी शब्द का ही उपयोग करेंगे।

तीन प्रकार के यौनसंचारित रोग होते हैं- जीवाणुओं से होने वाले (बैक्टीरियल), विषाणुओं से होने वाले (वायरल) और परजीवियों से होने वाले (पैरसिटिक)।

कुछ प्रकार के संक्रमण, जैसे कि बैक्टीरियल-वेजिनोसिस और कैन्डिडा (फंगल संक्रमण) होने से यौनसंचारित रोग आसानी से पकड़ सकता है।

यदि आप किसी खास एसटीडी के बारे में अधिक जानकारी हासिल करना चाहते हैं, तो उस पर क्लिक करें। वहां आपको, यह कैसे होता है; इससे कैसे बचा जा सकता है; इसके लक्षण क्या हैं और इसकी जांच किस प्रकार कराई जाए एवं इलाज किस प्रकार किया जाए, आदि के बारे में अधिक जानकारी मिलेगी।

जीवाणुओं से होने वाले यौनसंचारित रोग (बैक्टीरियल एसटीडी) जीवाणुओं से होते हैं:  क्लैमिडिया गोनोरिया, सिफि़लिस।

विषाणुओं से होने वाले यौनसंचारित रोग (वायरल एसटीडी)  विशाणुओं से होते हैं। जननांगों पर होने वाले दाने (ह्यूमन पैपीलोमावायरस, एचपीवी) जननांगों पर छाले (हर्पीज़ सिम्प्लेक्स वायरस, एसएसवी-1, एसएसवी-2), पानी से भरे दाने (मोलस्कम कॉन्टेजिओसम), हेपिटाइटिस-बी, एचआईवी (जिससे एड्स होता है)।
परजीवियों से होने वाले यौनसंचारित रोग (पैरासिटिक एसटीडी): परजीवियों के कारण होते हैं: ट्राइकोमोनिएसिस, जननांगों के आस-पास जूएं, खुजली।
 
दूसरे संक्रमण जिनके कारण यौनसंचारित रोग आसानी से लग सकते हैं: बैक्टीरियल वेजिनोसिस, कैन्डिडा (फफूंद के कारण होने वाला संक्रमण)। कुछ एसटीआई के बारे में सबसे अजीब बात यह है कि ये बिना किसी लक्षण दिखाई दिए भी आपके अंदर मौजूद हो सकते हैं, इसलिए आपको महसूस भी नहीं होता कि आपको संक्रमण है। लेकिन यदि आपको संक्रमण नज़र आते हैं, तो अपने डाॅक्टर या स्वास्थ्य सुविधा प्रदाता से उनकी जांच कराना ज़रूरी है।

महिलाओं में यौनसंचारित रोगों (एसटीडी) के आम लक्षण हैं:

पेशाब करते समय दर्द
सेक्स करते समय दर्द
आपके मासिक धर्म के बीच या सेक्स करने के बाद खून आना
योनि से पीले, हरे या खूनी रंग का स्राव
योनि से तेज बदबू
भगोष्ठ, वल्वा या योनि के आस-पास बालों में खुजली
गुदा से स्राव
जननांगों या गुदा के आस-पास फोड़े, घाव, दाने या छाले
पेट में दर्द

पुरुषों में यौनसंचारित रोगों के आम लक्षण हैं:

पेशाब या सेक्स करते समय दर्द
लिंग अथवा गुदा से स्राव (रिसाव)
जननांगों या गुदा के आस-पास फोड़े, घाव, दाने या छाले
एक या दोनों अंडकोषों में दर्द

यदि आपको कोई लक्षण नज़र आते हैं, अथवा आप समझते हैं कि आपको यौनसंचारित रोग हो सकता है (क्योंकि आपने असुरक्षित सेक्स किया है), तो इसकी अनदेखी न करें!

डाक्टर से मिलने के लिए समय लें या एसटीडी क्लीनिक जाएं।

यदि आप जल्दी इलाज शुरू कर देते हैं, तो अधिकांश यौनसंचारित रोग आसानी से ठीक हो जाते हैं। यदि इनका इलाज नहीं कराया जाता है, तो यौनसंचारित रोगों, जैसे क्लैमिडिया के कारण प्रजनन में असमर्थ (बांझपन) हो सकते हंै, अथवा ये (एचआईवी) जानलेवा साबित हो सकते हैं।

RELATED

Spotlight

Related Videos

घाटी में तैनात हुए आतंकियों के यमराज, देखिए कैसे होती है इनकी ट्रेनिंग

जम्मी कश्मीर में आतंकियों से निपटने के लिए अब एनएसजी कमांडो की तैनात कर दी गई है। आतंकियों के खिलाफ नए सिरे से ऑपरेशन को शुरू करने के लिए गृह मंत्रालय ने ये कदम उठाया गया है।

21 जून 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen