क्या माँ बनने के बाद नौकरी छोड़नी पड़ेगी?

Anuradha Goelअनुराधा गोयल Updated Mon, 29 Dec 2014 12:38 PM IST
विज्ञापन
If I have a baby do I have to stop work?

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
शादी के बाद अक्सर लड़कियों की चिंता होती है कि क्या मां बनने के बाद भी वो अपने कॅरियर पर ध्यान दे पाएंगी? क्या वे घर, बच्चा और कॅरियर के बीच ताल्लुक बिठा पाएंगी? ऐसी ही एक समस्या है 25 वर्षीय पूर्वी की।
विज्ञापन

 
पूर्वी कहती हैं मेरे पति और परिवार वालों का कहना है कि मुझे काम छोड़ देना चाहिए और बच्चा पैदा करना चाहिए। मैं भी माँ बनना चाहती हूँ। लेकिन मैं काम करना बंद नहीं करना चाहती! मैं उनसे क्या कहूँ?
आंटीजी कहती हैं...बेटे साफ़ बात ये है कि तुझे इस बारे में एक ही इंसान की राय की परवाह होनी चाहिए, वो है तेरा पति। देखते हैं कि वो आखिर तुझे ऐसा करने को क्यों कह रहा है। हो सकता है कि उसे लग रहा हो कि ऑफिस और बच्चा एक साथ सम्भालना तेरे लिए बहुत मुश्किल हो जायेगा। या उसे लगता होगा कि अगर तुम दोनों ऑफिस में व्यस्त रहोगे तो बच्चे कि परवरिश में कहीं कोई कमी न रह जाये। या हो सकता है कि उसे डर लग रहा हो कि तू ऑफिस चली जाएगी तो तेरे पीछे से वो बच्चे को कैसे संभल पायेगा।

कहीं ऐसा तो नहीं कि वो बाप तो बनना चाहता है लेकिन उसे पता नहीं कि उसका योगदान परवरिश में कितना हो पायेगा। या उसे लगता है कि एक बार तुमगर्भवती हो गयी और उसका काम खत्म। तुझे क्या लगता है पूर्वी बेटा?
सबका योगदान महत्वपूर्ण

तो पूर्वी बेटा, सबसे पहला सवाल ये नहीं है कि तुम बच्चा पैदा करना चाहते हो, बल्कि ये है कि क्या तेरा पति इस ज़िम्मेदारी के लिए तैयार है या नहीं? बच्चा तुम दोनों को पैदा करना है, सिर्फ तुझे नहीं। सबसे पहले इस बात कि तसल्ली कर ले।

तुम बच्चा चाहते हो, बड़ी ख़ुशी की बात है। और तुझे काम से कुछ दिन दूर रहना पड़ेगा, ये भी सच है। लेकिन तू बच्चा पैदा करने के लिए ज़िन्दगी भर काम छोड़ दे, ये क्या बात हुई भाई? हाँ ये सच है कि तेरे शरीर को आराम चाहिए होगा और तेरे बच्चे को तेरी देखभाल, शुरू में भी और ज़िन्दगी भर। लेकिन इसका समाधान काम छोड़ देना तो नहीं है। बच्चा पैदा करना और उसे पलना पोसना माँ का काम तो है, लेकिन सिर्फ माँ का काम बिलकुल नहीं।

तेरे पति का रोल?
मेरे ख्याल से जब अगली बार इस बारे में बात हो तो तू पूरी बात सुन, और सुनने के बाद ठन्डे दिमाग से उसे इस बारे में चर्चा कर। उसे बिना दिल पर कोई बोझ रखे बता दे कि बच्चा तू भी चाहती है और तू इसके लिए काम से छुट्टी लेने को तैयार है। और फिर उससे पूछ कि उसका भी बच्चा है तो उसने इस बच्चे के लिए क्या क्या करने के बार में सोचा है।

क्या वो अपने ऑफिस से जल्दी घर आना शुरू करने वाला है? क्या तुम बच्चे कि देखभाल के लिए नर्स रखोगे? क्या तुम अपने सास ससुर या माँ बाप से मदद लोगे? तुम्हारे घर से ऑफिस कितना दूर है? जब तुम लेट होगी तो क्या वो जल्दी आकर बच्चे को संभल पायेगा? घर का बाकि कामकाज कैसे होगा? क्या उसने इस सब के बारे में भी सोचा है?

असल में समस्या यही है कि पति,परिवार और समाज के दबाव में बहुत बार महिलाएं अपनी प्राथमिकताओं और इच्छाओं कि बलि दे देती हैं और खुद भी मैंने लगती हैं किमाँ बनना ही उनका मूल भूत काम है। मैं नहीं चाहती पूर्वी बेटा कि तू भी ऐसा ही करे। इस बारे में अच्छी तरह सोच।

हर भूमिका में प्यार
जहाँ तक आसपास के लोगों की बात है, जब तेरा पति और तेरे होने वाले बच्चे का बाप इस ज़िम्मेदारी में अपनी बराबर की हिस्सेदारी को समझ लेगा, सब अपने आप शांत हो जायेंगे। सोच तुझे कितनी ख़ुशी मिलेगी जब तू ऐसे बच्चे की माँ बनेगी जिसका पिता और परिवार तुझे एक आधुनिक, स्वतंत्र और सफल महिला के रूप में इज़्ज़त और प्यार देगा!
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X