विज्ञापन
विज्ञापन

सावित्री बाई फुले के इन बयानों ने भाजपा को डाला संकट में, जिन्ना को बताया था महापुरुष  

चुनाव डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Thu, 06 Dec 2018 04:33 PM IST
सांसद सावित्री बाई फुले
सांसद सावित्री बाई फुले - फोटो : amar ujala
ख़बर सुनें
लोकसभा चुनाव से ऐन पहले भारतीय जनता पार्टी को बड़ा झटका लगा है। बहराइच से सांसद सावित्री बाई फुले ने पार्टी पर कई गंभीर आरोप लगातार इस्तीफा दे दिया। हालांकि उन्होंने कहा कि वह कार्यकाल पूरा होने तक सांसद रहेंगी। सिर्फ पार्टी से इस्तीफा दिया है। सावित्री बाई कुछ सालों में बेहद चर्चित रही हैं। खासतौर पर अपनी ही पार्टी और नेताओं के खिलाफ उनके तीखे बयान उन्हें सुर्खियां दिलाते रहे। उन्होंने कई मौकों पर भाजपा पर इस तरह हमला बोला जिस तरह कोई विपक्षी नेता बोलता है। बहरहाल, सावित्री बाई के भाजपा छोड़ने से पार्टी को कितना नुकसान होगा ये देखने वाली बात होगी। लेकिन उनके इस्तीफे ने एक ऐसे सिलसिले को शुरू कर दिया है जो भविष्य में पार्टी के लिए मुसीबत का पिटारा खोल सकता है। 
विज्ञापन
विज्ञापन
आइए आपको बताते हैं कि सावित्री बाई के किन बयानों ने सियासी हलचल मचाई और पार्टी को असहज स्थितियों में डाला। 

4 दिसंबर 2018

हाल ही में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के राजस्थान में हनुमान को दलित-वनवासी बताए जाने वाले बयान पर सावित्री ने तीखा बयान दिया था।  हनुमान जी को दलित बताए जाने पर उन्होंने कहा कि हनुमान जी दलित थे लेकिन मनुवादियों के खिलाफ थे। तभी राम ने उन्हें बंदर बना दिया।

10 नवंबर 2018

सावित्री बाई फुले ने अयोध्या में विवादित स्थल पर बुद्ध की प्रतिमा स्थापित करने की मांग की। उन्होंने ने कहा कि अयोध्या बुद्ध की कर्मस्थली है, इसलिए वहां बुद्ध की प्रतिमा स्थापित होनी चाहिए। सावित्री बाई फुले ने विवादित स्थल में हुई खुदाई के दौरान निकले अवशेषों का जिक्र करते हुए कहा कि वह अवशेष बुद्ध से जुड़े हुए थे।

19 अगस्त 2018 

एक कार्यक्रम में सावित्री बाई फुले ने अपनी ही पार्टी की सरकारों को कोसा। उन्होंने कहा कि दलितों की बात करें तो  केंद्र की मोदी सरकार व योगी सरकार दलितों के हितों की अनदेखी करती आ रही है। सरकार 10 में एक भी अंक पाने की हकदार नहीं है।

14 मई 2018 

सावित्री बाई फुले ने एक प्रेस वार्ता में कहा कि देश में लोकतंत्र खतरे में है। सांसद ने कहा कि यह मैं नहीं कह रही बल्कि, देश की सर्वोच्च अदालत के न्यायाधीश कह रहे हैं। उन्होंने कहा कि बहुजन समाज को प्रताड़ित किया जा रहा है। आरक्षण खत्म कर संविधान में संशोधन की बात कही जा रही है।  

11 मई 2018 

मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) में पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर पर विवाद लेकर उन्होंने मो. अली जिन्ना को महापुरुष करार दिया था। उन्होंने कहा था कि आजादी की लड़ाई में जिन्ना का योगदान था। इसलिए जिन्ना की तस्वीर को जहां भी लगाए जाने की जरूरत है उस जगह पर लगाई जानी चाहिए।

7 मई 2018 

सांसद सावित्री बाई फुले के बोल से भाजपा सरकार की योजनाओं की पोल खुल रही है। सांसद का कहना है कि सरकार की योजनाएं गरीबों तक नहीं पहुंचती, सिर्फ उन्हें झुनझुना पकड़ाया जा रहा है। थोड़ा सा लालच देकर विकास की बात की जाती है, जबकि दलित और गरीब आज भी जैसे-तैसे जिंदगी काट रहा है। 

4 मई 2018

सावित्री बाई फुले ने नेताओं के दलितों के घर भोजन करने को लेकर सवाल उठाए और उनके (नेताओं) इस कृत्य को दलितों का अपमान बताया। उन्होंने कहा कि ये जो परंपरा चल रही है उसमें दलित वर्ग का सिर्फ अपमान हो रहा है। नेता दलित के घर खाना खाने जाते हैं लेकिन खाना बनाने वाला कोई और होता है, परोसने वाला कोई और। बर्तन टेंट हाउस के होते हैं। 

सावित्री बाई को कई मौकों पर भाजपा से चेतावनी भी मिली, लेकिन उनके बगावती तेवर कमजोर नहीं पड़े। अंत में उन्होंने पार्टी से इस्तीफा देकर हमेशा के लिए भाजपा से नाता ही तोड़ लिया। लेकिन उनके इस्तीफे ने उत्तर प्रदेश में भाजपा के लिए मुश्किलें खड़ी कर दी हैं।

Recommended

UP Board Results देखने के लिए आज ही 8929470909 नंबर पर मिस्ड कॉल करें और फोन पर पाएं परिणाम
UP Board 2019

UP Board Results देखने के लिए आज ही 8929470909 नंबर पर मिस्ड कॉल करें और फोन पर पाएं परिणाम

कब और कैसे मिलेगी सरकारी नौकरी ?
ज्योतिष समाधान

कब और कैसे मिलेगी सरकारी नौकरी ?

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव में किस सीट पर बदल रहे समीकरण, कहां है दल बदल की सुगबुगाहट, राहुल गाँधी से लेकर नरेंद्र मोदी तक रैलियों का रेला, बयानों की बाढ़, मुद्दों की पड़ताल, लोकसभा चुनाव 2019 से जुड़े हर लाइव अपडेट के लिए पढ़ते रहे अमर उजाला चुनाव समाचार।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

India News

सीजेआई मामले में साजिश के दावे पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला, पूर्व जज एके पटनायक करेंगे जांच

न्यायालय ने प्रधान न्यायाधीश के खिलाफ षड्यंत्र संबंधी वकील के दावों पर कहा कि इस संस्था को बदनाम करने के लिए एक सोचा समझा हमला किया जा रहा है और सोचा समझा खेल खेला जा रहा है।

25 अप्रैल 2019

विज्ञापन

तुंगा नदी के किनारे मरी हुई पाई गईं मछलियां, जांच के लिए भेजा गया नदी का पानी

कर्नाटक के तुंगा नदी के किनारे कई मछलियां मरी हुई पाई गई। फिलहाल इसकी वजहों का पता नहीं चल पाया है।

25 अप्रैल 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election