केरल: कांग्रेस नेता पर हमला, पार्टी ने CPI(M) पर लगाया हत्या का आरोप

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, कन्नूर Updated Tue, 13 Feb 2018 04:32 PM IST
youth congress activities killed in kerala and party says CPI(M) responsible for murder
दक्षिण भारत में राजनीतिक पार्टियों के कार्यकर्ताओं पर होने वाले जानलेवा हमले थम नहीं रहे हैं। केरल के कन्नूर में युवा कांग्रेस के 30 वर्षीय कार्यकर्ता की धारदार हथियारों से हत्या की गई है। कांग्रेस ने हत्या के लिए सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी सीपीआई (एम) को जिम्मेदार ठहराया है। 
कांग्रेस का कहना है कि शौएब यूथ कांग्रेस के कार्यालय में काम करता था और उसकी हत्या को साजिश के तहत अंजाम दिया गया। कांग्रेस ने बताया कि रात करीब 11 बजे चार से पांच आरोपी कार से आए और उन्होंने शौएब पर बम फेंककर हमला कर दिया। 

इस हमले में शौएब और उसके दो साथी जख्मी हो गए, लेकिन आरोपी का मकसद यहीं पूरा नहीं हुआ। उन्होंने गाड़ी से धारदार हथियार निकाले और घायल हुए शौएब पर वार करने लगे। इस हमले में कांग्रेस के दो और कार्यकर्ता भी घायल हुए हैं।

कांग्रेस का कहना है कि राज्य में युवा सक्रिय तौर पर बैठक करते हैं और ये सीपीआई (एम) को रास नहीं आता है और इसी वजह से शौएब को अपनी जान गंवानी पड़ी है। हालांकि, सत्तारुढ़ पार्टी की तरफ से आरोपों को फर्जी करार दिया गया है। पार्टी की तरफ से कहा गया कि अगर सीपीआई का कोई कार्यकर्ता इस हमले में शामिल पाया गया तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। लेकिन पार्टी का इस हमले में कोई रोल नहीं है।

बता दें कि केरल में राजनीतिक लड़ाई कांग्रेस और लेफ्ट पार्टियों के बीच ही ज्यादातर देखी गई हैं और आने वाले 2019 लोकसभा चुनाव की तैयारियों दोनों पार्टियों की तरफ से शुरू मानी जा रही है। हालांकि, पिछले लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी यहां एक सीट जीतने में कामयाब रही थी।

Spotlight

Most Read

Dehradun

देहरादून के नामी पेट्रोलपंप मालिक ने बेटे संग नौकरानी से किया रेप, कोर्ट में किया सरेंडर

देहरादून के एक नामी पेट्रोलपंप मालिक ने अपने बेटे के साथ नौकरानी को हवस का शिकार बना लिया।

23 फरवरी 2018

Related Videos

जम्मू-कश्मीर: 2017 में आतंकवादी हिंसा में आम नागरिकों की हुई सबसे ज्यादा मौत

प्रकृति ने जिसे हर खूबसूरत रंग दिया वो जम्मू-कश्मीर सालों से अशांत है। कभी वहां से पंडितों को भगा दिया तो सालों से वहां आम नागरिक नरक की जिंदगी जीने को मजबूर है।

24 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen