बीआरडी कांड: फरार 6 आरोपियों की तलाश में लगीं पुलिस की आठ टीमें

amarujala.com, Presented by: अविजय हरित Updated Mon, 04 Sep 2017 09:32 PM IST
brd hospital
brd hospital
विज्ञापन
ख़बर सुनें
बीआरडी कांड के फरार छह आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने अब आठ टीमें लगा दी हैं। ताबड़तोड़ छापेमारी भी चल रही है लेकिन आरोपी पुलिस की पकड़ से दूर हैं। वे शातिर अपराधी की तरह पुलिस को गच्चा दे रहे हैं।
विज्ञापन


पढ़ें: गोरखपुर ट्रेजेडी: ट्रांजिट रिमांड पर फफक कर रोए पूर्व प्रिंसिपल, बोले-इज्जत चली गई


मामला सीएम योगी आदित्यनाथ की प्राथमिकताओं का है, फिर भी पुलिस अंधेरे में हाथ-पांव चला रही है। कोर्ट से वारंट जारी होने के बाद भी आरोपियों के सुराग नहीं मिल सके हैं। 
बीआरडी कांड में निलंबित पूर्व प्रिंसिपल डॉ. राजीव मिश्रा समेत नौ नामजद आरोपी बनाए गए थे। इसमें से डॉ. राजीव, उनकी पत्नी डॉ. पूर्णिमा और डॉ. कफील खान की गिरफ्तारी हो चुकी है।

अब फरार छह आरोपियों की गिरफ्तारी को जाल बिछाया गया है। पुलिस की तीन और टीमें लगाई गई हैं। पांच टीमें पहले से गिरफ्तारी की कोशिश में लगी हैं। इसका मतलब है कि अब आठ टीमें गिरफ्तारी को लगा दी गई हैं।

इन टीमों को गोरखपुर के साथ ही अलग-अलग जिलों में भेजा गया है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि सीएम दो दिनों (तीन और चार सितंबर) तक शहर में थे। इसी दौरान सबकी गिरफ्तारी होनी थी, लेकिन ऐसा नहीं हो सका।

एफआईआर दर्ज होने और गिरफ्तारी के बीच लंबा समय निकल गया है। यह स्थिति बेहद शर्मनाक है। एसटीएफ, क्राइम ब्रांच की टीमें भी फरार छह आरोपियों की लोकेशन नहीं ट्रैस कर पा रही हैं। मामले की छानबीन जहां की तहां फंसी है।

पुलिस का हाथ पूरी तरह से खाली है। इस मामले में तीन गिरफ्तारियां हुई हैं। सभी एसटीएफ ने की हैं। इससे पुलिस का खुफिया और सूचना तंत्र भी सवालों के घेरे में है। इतना बड़ा तंत्र होने के बाद भी सामान्य आरोपियों की गिरफ्तारी में पुलिस को सफलता नहीं मिल पा रही है।

पढ़ें: जाने क्यों BRD अस्पताल के बाहर तैनात की गई पीएसी

पुलिस सूत्रों का कहना है कि प्रकरण की जांच और एफआईआर दर्ज होने में काफी समय लग गया। इसका फायदा आरोपियों ने उठाया और भाग निकले। इससे पुलिस प्रशासन की मुश्किलें बढ़ गई हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00