विज्ञापन

केंद्रीय मंत्री ने कहा- अंतिम संस्‍कार के बाद राख गंगा में मत प्रवाहित करें, भड़के हिंदूवादी नेता

Baliram Mishra Updated Thu, 21 Dec 2017 10:49 AM IST
विज्ञापन
विज्ञापन
केंद्रीय राज्य मंत्री उत्तराखंड के हरिद्वार में नमामि गंगा मिशन के 34 प्रोजेक्ट्स का उद्घाटन करने पहुंचे थे। यहां कार्यक्रम के बाद उन्होंने कहा यह टिप्पणी दी है। केंद्रीय राज्य मंत्री ने सभी लोगों से अपील की है कि वे कुछ भी ऐसा न करें, जिससे गंगा की पवित्रता को नुकसना पहुंचे। केंद्रीय राज्य मंत्री डॉ.सत्यपाल सिंह के बयान पर मंगलवार को विवाद खड़ा हो गया। उन्होंने लोगों से अपील की है कि वे अंतिम संस्कार के बाद राख और पूजा के फूलों को गंगा में प्रवाहित न करें। हिंदू संगठनों से जुड़े हुए नेता और कार्यकर्ता इसी पर भड़क गए हैं। बता दें कि हिंदू परंपरा में गंगा को बेहद पवित्र माना जाता है। यही कारण है कि लोगों के अंतिम संस्कार के बाद उनकी अस्थियों को (राख) गंगा में प्रवाहित किया जाता है। उत्तराखंड के हरिद्वार में मंत्री नमामि गंगा मिशन के 34 प्रोजेक्ट्स के उद्घाटन के लिए पहुंचे थे। कार्यक्रम के बाद उन्होंने कहा, “लोगों की अपनी मान्यताएं है। लेकिन यह आज के समय की मांग है। हमें ऐसा कुछ भी नहीं करना चाहिए, जिससे कि गंगा की पवित्रता को प्रभाव पड़े।” मंत्री ने आगे बताया, “वर्तमान स्थिति के मुताबिक, मैं सभी से अपील करूंगा कि राख को जमीन में दफ्न किया जाए और फिर उस पर पौधे लगाए जाने चाहिए, ताकि आने वाली पीढ़ियां उन्हें (गुजर चुके लोगों को) याद रखें। उनके मुताबिक, “गंगा में पुरखों की राख के साथ फूल और पूजा का सामान प्रवाहित करना भी जरूरी नहीं है।” यही नहीं, मंत्री ने सभी पुजारियों से इस बाबत लोगों को जागरूक करने की अपील भी की। जबकि, हिंदू संगठन के नेता और कार्यकर्ता केंद्रीय राज्य मंत्री की इस टिप्पणी की कड़ी आलोचना कर रहे हैं। वे उनके इस बयान को दुर्भाग्यपूर्ण बता रहे हैं। श्री गंगा सभा के अध्यक्ष पुरुषोत्तम शर्मा ने कहा कि गंगा में यह परंपरा सालों से चली आ रही है। उन्होंने आगे कहा, “भारतीय संस्कृति या गंगा नदी पर लोगों का अटूट विश्वास अभी से नहीं है। न ही पवित्र नदी में लोगों की अस्थियां विसर्जित करने की परंपरा नई है।” वहीं, अखाड़ा परिषद के मुखिया आचार्य नरेंद्र गिरी ने केंद्रीय राज्य मंत्री के बयान की निंदा की। उन्होंने कहा कि सिंह को हिंदू परंपराओं के बारे में नहीं पता है। ऐसा बयान सिर्फ वही दे सकता है, जिसे सनातन धर्म के बारे में कुछ पता नहीं होता।” डॉ.सत्यपाल सिंह ने गंगा में अस्थियां प्रभावित न करने के बजाय उसे जमीन में दफ्न कर उस पर पौधे लगाने का सुझाव दिया है।

शिक्षकों के अनुमोदन में चल रहे फर्जीवाड़े पर रोक के नहीं दिख रहे आसार

पोर्टल बनाकर कॉलेजों में शिक्षकों के अनुमोदन में होने वाला फर्जीवाड़ा रोकने की लखनऊ विश्वविद्यालय की कोशिश को झटका लगा है। अब सुप्रीम कोर्ट ने आधार नंबर को अनिवार्य बनाने से इन्कार कर दिया है।

21 अक्टूबर 2018

विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree