सुलतानपुर। दीपू तिवारी हत्याकांड में सरेंडर करने की नीयत से दी गयी

Baliram Mishra Updated Thu, 21 Dec 2017 10:48 AM IST
सुलतानपुर। दीपू तिवारी हत्याकांड में सरेंडर करने की नीयत से दी गयी अर्जी पर मांगी गयी आख्या ही सीजेएम कोर्ट में नही पहुंच सकी। नतीजतन नामजद आरोपी का सरेन्डर भी अधर में है। सीजेएम विजय कुमार आजाद ने आगामी 20 दिसम्बर तक के लिए नगर कोतवाल से पुनः आख्या तलब की है।      मालूम हो कि कोतवाली नगर  क्षेत्र स्थित सोल्जरपुर चौराहे के निकट दिन-दिहाड़े दीपू तिवारी की बीते 11 दिसम्बर को बाइक सवार बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी। इस मामले में दीपू के परिजनों ने इफ्तिखार अहमद उर्फ पिंटूू निवासी धरहाकला, मन्नान निवासी लोलेपुर के खिलाफ नामजद व दो अज्ञात के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कराया। घटना के एक सप्ताह बाद भी नगर पुलिस किसी भी आरोपी को पकड़ पाने में नाकाम रही है। वहीं नामजद आरोपी इफ्तिखार अहमद ने बीते शनिवार को सीजेएम कोर्ट में सरेन्डर अर्जी दी है। जिसकी तरफ से पैरवी कर रहे अधिवक्ता राजा प्रताप सिंह ने कोतवाली से आख्या तलब किये जाने की मांग की है। जिन्होंने पुलिस द्वारा वांछित बताए जाने पर सरेन्डर करने का तर्क रखा है। इस प्रार्थना पत्र पर सुनवाई के पश्चात सीजेएम ने कोतवाली से सोमवार के लिए आख्या तलब की थी। फिलहाल पुलिस की लापरवाही के चलते पुलिस के लिए ही नासूर बने आरोपी के विषय में रिपोर्ट ही कोर्ट नही पहुंच सकी। नतीजतन नामजद आरोपी इफ्तिखार अहमद का सरेन्डर ही नही हो सका। सोमवार को अर्जी पर सुनवाई के दौरान आरोपी के अधिवक्ता राजा प्रताप सिंह ने पुनः कोतवाली से आख्या मंगाए जाने की मांग की। सीजेएम विजय कुमार आजाद ने मामले में आगामी 20 दिसम्बर के लिए कोतवाल से आख्या तलब की है।

Spotlight

अफसरों को मुख्यमंत्री योगी की दो टूक, भ्रष्टाचार हुआ तो नौकरी करना सिखा देंगे

मुख्यमंत्री योगी वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए सभी जिलों के पुलिस कप्तान और जिलाधिकारयों के साथ रूबरू थे। उन्होंने कहा कि एसओ से एसपी तक यह जान लें कि अगर भ्रष्टाचार की शिकायत सही पाई गई तो नौकरी करना सिखा देंगे।

26 फरवरी 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen