लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Lucknow News ›   Technical assistance for HRF in KGMU

Lucknow News: तकनीक के सहारे एचआरएफ में सेंधमारी रोकने की तैयारी

Lucknow Bureau लखनऊ ब्यूरो
Updated Sun, 27 Nov 2022 08:30 AM IST
Technical assistance for HRF in KGMU
विज्ञापन
केजीएमयू में एचआरएफ की दवाओं में हो रही सेंधमारी रोकने के लिए अब तकनीक का सहारा लेने पर भी विचार किया जा रहा है। इसके तहत ऐसी व्यवस्था लागू करने की तैयारी है, जिसमें मरीज की आईडी पर दवाएं जनरेट करने का काम संविदा कर्मचारियों के बजाय डॉक्टरों को दिया जा सके। ऐसे में कर्मचारी अपने आप दवाएं भरकर स्टोर से नहीं निकाल पाएंगे।

नई व्यवस्था में ओपीडी के विशिष्ट सॉफ्टवेयर में पहले से एचआरएफ में उपलब्ध दवाओं के नाम लिखे होंगे। ओपीडी में क्लिक करते ही वे दवाएं मरीज की आईडी पर चढ़ जाएंगी। इसके बाद भुगतान करके वे दवाएं एचआरएफ स्टोर से मिल जाएंगी। ऐसा होने पर दवाओं की संख्या या मात्रा में हेरफेर करना संभव नहीं होगा। हालांकि ऑनलाइन आधारित ओपीडी में सबसे बड़ी चुनौती मरीजों की भीड़ से निपटने की है। ऑनलाइन प्रिस्क्रिप्शन लिखना समय खपाने वाला काम है। हालांकि केजीएमयू ने इसके विकल्प के लिए प्रिस्क्रिप्शन के लिए विशेषज्ञ तैयार करने की योजना तैयार की है।

डॉक्टरों के विरोध के बाद पूर्व में बंद करनी पड़ी थी व्यवस्था
केजीएमयू में पूर्व कुलपति प्रो. रविकांत के समय में वर्ष 2014 से 2017 तक सॉफ्टवेयर आधारित व्यवस्था थी। उस समय इसका मुख्य मकसद मरीज की केस हिस्ट्री ऑनलाइन तैयार करना था। अगले कुलपति प्रो. एमलएबी भट्ट के कार्यकाल में यह व्यवस्था डॉक्टरों के भारी विरोध के बाद समाप्त करनी पड़ी थी।
कमेटी ने शुरू की पूछताछ
कमेटी ने शनिवार को अपनी जांच शुरू कर दी। सात सदस्यीय कमेटी ने शनिवार को आठ कर्मचारियों से पूछताछ की। इसमें एसटीएफ के हत्थे चढ़े रजनीश कुमार के साथ काम करने वाले चार कर्मचारी भी शामिल हैं, जिनके नाम उसने उगले थे। चार में से शनिवार को सिर्फ तीन कर्मचारी ही अपना बयान दर्ज कराने पहुंचे। कमेटी ने करीब दो घंटे पूछताछ की। वहीं एक कर्मचारी ने अपना फोन स्विच ऑफ कर लिया है।
डॉक्टर के करीबी की भूमिका संदिग्ध
जांच के दौरान एक डॉक्टर की भूमिका संदिग्ध मिलने की बात सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि बाराबंकी निवासी एक व्यक्ति यहां के डॉक्टर का करीबी है। जांच टीम को यह बात भी पता चली है कि ज्यादातर आउटसोर्सिंग कर्मचारी पहले से ही एक दूसरे के परिचित हैं। इसी वजह से इस तरह काम करने में उनको आसानी हो गई।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00