स्कूल बैग का ठेका दिलाने के नाम पर ठगे 46 लाख ,10 करोड़ के टेंडर के नाम पर हुई धोखाधड़ी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, लखनऊ Updated Wed, 14 Feb 2018 01:36 AM IST
fraud of 46 lakhs for tendor of school bags.
प्रतीकात्मक तस्वीर
प्राथमिक स्कूलों में लेदर बैग की सप्लाई का 10 करोड़ का ठेका दिलाने के नाम पर जालसाज ने 46 लाख रुपये ऐंठ लिए। जालसाजी का शिकार कारोबारी दो साल तक ठेके व अपनी रकम के लिए भटकता रहा। जब उसकी उम्मीद खत्म हो गई तो उसने मंगलवार को हजरतगंज थाने में जालसाज के खिलाफ केस दर्ज कराया।
कोलकाता के तिलजला साउथ परगना निवासी सरफराज आलम का लेदर इम्पोरियम के नाम से कारखाना है। वहां लेदर बैग व अन्य सामान के निर्माण के साथ ही सप्लाई की जाती है। 2016 जून में बेसिक शिक्षा निदेशालय ने प्रदेश के प्राथमिक विद्यालयों के बच्चों को लेदर बैग की आपूर्ति का टेंडर निकाला। सरफराज भी इसमें शामिल हुए।

उन्होंने बेसिक शिक्षा निदेशालय के कई चक्कर लगाए। इसी दौरान उनकी मुलाकात राहुल शुक्ला उर्फ राम से हुई। टेंडर दिलाने के लिए उसने हजरतगंज के एक नामी होटल में बैठक की। कई बार की वार्ता के बाद राहुल ने टेंडर दिलाने के लिए अपने राजनीतिक रसूख का हवाला दिया।

इस दौरान कुछ नेताओं और मंत्रियों से बातचीत भी मोबाइल पर कराई। खुद को एनेक्सी में बतौर अनुभाग अधिकारी बताया। ठेका दिलाने के लिए उसने मंत्री और विभागीय अधिकारियों के लिए अलग-अलग कमीशन देने की बात कही। लेकिन तीन से चार बार में अपने लिए करीब 46 लाख कमीशन लेने के बाद आरोपी कारोबारी को टरकाता रहा।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Bihar

तेजस्वी का नीतीश सरकार पर हमला, कहा- मेरे खाने में मिलाया जा रहा है जहर

बिहार में नीतीश बनाम लालू परिवार की सियासी जंग जारी है।

23 फरवरी 2018

Related Videos

सीएम योगी आदित्यनाथ ऐसे करेंगे बुंदेलखंड का विकास

राजधानी लखनऊ में दो दिनों तक चले इन्वेस्टर्स समिट में सीएम योगी आदित्यनाथ ने बुंदेलखंड के विकास का खाका खींचा और बताया कि वे कैसे यूपी के विकास के लिए काम कर रहे हैं।

23 फरवरी 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen