विज्ञापन
विज्ञापन

अगर आपके घर में 14-20 साल के बच्चे हैं तो यह खबर जरूर पढ़ें

Lucknow Bureauलखनऊ ब्यूरो Updated Thu, 22 Aug 2019 01:00 AM IST
ख़बर सुनें
साइबर दादागीरी : अगर आपके घर में 14-20 साल के बच्चे हैं तो यह खबर जरूर पढ़ें
विज्ञापन
आपके घर में 14-20 साल के बच्चे हैं तो यह खबर आपको आगाह करने के लिए है। अगर बच्चा अचानक गुमसुम रहने लगे, पढ़ाई बंद कर किताब-कॉपियां फाड़ने लगे या आत्महत्या जैसी बातें करे तो हो सकता है कि वह साइबर बुलिंग या दादागीरी की चपेट में हो।
यह राजधानी के किशोरों को गहरे अवसाद में धकेल रही है। चिंता की बात इसलिए भी है, क्योंकि केजीएमयू के मानसिक रोग विभाग में ऐसे मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। ऐसे अवसादग्रस्त मरीजों में 70 प्रतिशत बेटियां हैं।
केजीएमयू के मानसिक रोग विभाग के डॉ. आदर्श त्रिपाठी बताते हैं कि एक ओपीडी में औसतन दो मरीज ऐसे आते हैं जिनके अवसाद का कारण साइबर बुलिंग है।
हफ्ते में ऐसे मरीजों की संख्या का औसत 30 है। लोहिया अस्पताल के वरिष्ठ मानसिक रोग विशेषज्ञ डॉ. देवाशीष शुक्ला कहते हैं कि वर्चुअल दुनिया से ज्यादा लगाव के कारण बच्चे तेजी से अवसाद के शिकार हो रहे हैं।
एक ओपीडी में चार बच्चे आते हैं तो इनमें से तीन साइबर बुलिंग या इंटरनेट एडिक्शन के शिकार होते हैं।
वॉट्सएप पर ब्रेकअप, आत्महत्या की कोशिश
मरीज 16-17 साल की छात्रा है। उसके स्कूल के लड़के-लड़कियों का कॉमन वॉट्सएप ग्रुप है। इसमें शामिल लड़के से उसकी दोस्ती हो गई। दोनों पर्सनल नंबर पर बात करने लगे। एक दिन उनका ब्रेकअप हो गया। इसके बाद लड़के ने फेसबुक पर कुछ फोटो व उसके बारे में भद्दी बातें शेयर कर दी। इससे छात्रा धीरे-धीरे डिप्रेशन में चली गई। उसने हाथ की नस काटकर आत्महत्या की कोशिश भी की। गहरे अवसाद में रह रही छात्रा का इलाज चल रहा है।
बर्बाद हो गया टॉपर का कॅरिअर
लखनऊ की एक बिटिया ने परीक्षा में टॉप किया था। उसके बारे में पढ़कर किसी ने सोशल मीडिया से संपर्क किया और खुद को सरकारी नौकरी में बताकर दोस्ती की। आश्वासन दिलाया कि उसे और बड़े अवॉर्ड दिलवाएगा। वर्चुअल दुनिया का यह संबंध गहरा हो गया। अचानक लड़के ने छात्रा से साइबर बुलिंग शुरू कर दी और ब्रेकअप हो गया। इस बीच लड़की का व्यवहार बदल गया। जब तक घरवालों को पता लगा वह तनाव से घिर चुकी थी और नतीजा उस साल का उसका रिजल्ट चौंकाने वाला था, वह फेल हो चुकी थी।
क्या है साइबर बुलिंग, ऐसे निपटें इससे
ऑनलाइन माध्यम से किसी के बारे में अफवाह उड़ाना, धमकी देना, सेक्सुअल कमेंट, व्यक्तिगत जानकारी सार्वजनिक करना या हेट स्पीच देना साइबर बुलिंग कहलाता है। आमतौर पर ऐसा करने वाले फेक आईडी इस्तेमाल करते हैं। इसकी शिकायत फेसबुक और पुलिस दोनों से की जानी चाहिए। फेसबुक पर रिपोर्ट अब्यूज पर जाकर शिकायत की जा सकती है।
ये लक्षण दिखें तो हो जाएं सावधान
बेटा या बेटी समाज से कटने लगे, गुमसुम रहे और आत्मविश्वास कम नजर आए, पढ़ाई बंद कर दे, खुदकुशी करने जैसी बातें करे, रात को ठीक से न सोए, भूख ज्यादा या कम हो जाना, रिजल्ट खराब होने लगे, दोस्तों या भाई-बहनों से साइबर बुलिंग पर उतारू हो जाए।
बच्चों की मानसिक सेहत पर असर
क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट डॉ. केके मिश्रा कहते हैं कि चैट रूम में कोई आमने-सामने तो होता नहीं है। हम किसी को पहचान नहीं पाते। कई बार लोग शब्दों में सीमा लांघ जाते हैं, जो किशोर-किशोरियों को भावनाओं के जाल में फंसा देता है। यहीं से शुरू होता है सिलसिला इमोशनल ब्लैकमेलिंग का और नतीजतन पीड़ित एंग्जाइटी डिप्रेशन का शिकार होता चला जाता है। डिप्रेशन बढ़ने से सोसाइटी से बच्चों का समायोजन खत्म होता जाता है। स्कूल जाना बंद हो जाता है। कई बार तो लोग तनाव में ज्यादा खाने लगते हैं। यह मोटापे का कारण बनता है, जिससे नया डिप्रेशन शुरू हो जाता है। पीड़ित का आत्मविश्वास कमजोर हो जाता है और जीने की इच्छाशक्ति कमजोर पड़ जाती है।
इन उपायों पर दें ध्यान
डॉ. केके मिश्रा के मुताबिक, आमतौर पर हर वक्त निगरानी संभव नहीं, लेकिन टीचर, माता-पिता और बच्चे के बीच रिश्तों में पारदर्शिता जरूरी है। बच्चों को यह भरोसा दिलाएं कि ऐसा कुछ होने पर वे आपको बताएं। बच्चों के साथ जुड़ना जरूरी है। ऐसे मामलों में काउंसलिंग और दवाइयों की जरूरत पड़ती है। बच्चों को आभासी दुनिया की हकीकत से रूबरू कराना होगा, उसके बारे में सही-गलत बताएं।
विज्ञापन

Recommended

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार ही है कॉमकॉन 2019 की चर्चा का प्रमुख विषय
Invertis university

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार ही है कॉमकॉन 2019 की चर्चा का प्रमुख विषय

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Lucknow

अयोध्या : युवक ने महिला से बच्चा छीन चलती ट्रेन से फेंका, जीआरपी ने लिया हिरासत में

गोसाईगंज रेलवे स्टेशन के पास की घटना। आरोपी युवक को जीआरपी ने हिरासत में लिया।

19 सितंबर 2019

विज्ञापन

विनेश फोगाट ने विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में जीता मेडल, टोक्यो ओलंपिक 2020 के लिए हुईं क्वालीफाई

भारत की स्टार महिला पहलवान विनेश फोगाट ने विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में कांस्य पदक अपने नाम किया है। मेडल जीतने के साथ ही विनेश फोगाट ने टोक्यो ओलंपिक 2020 के लिए भी क्वालीफाई कर लिया है।

18 सितंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree