लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Lucknow ›   A man was doing fraud on the name of job in transport department, arrested.

Lucknow News: परिवहन मंत्री का करीबी बनकर ठगी करने वाला गिरफ्तार, लाखों रुपये वसूलने वाले गिरोह का पर्दाफाश

माई सिटी रिपोर्टर, अमर उजाला, लखनऊ Published by: ishwar ashish Updated Tue, 09 Aug 2022 03:45 PM IST
सार

परिवहन विभाग में नौकरी दिलाने के नाम पर लाखों की ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश हो गया है। गिरोह के एक सदस्य को एसटीएफ ने दबोच लिया है। उसके पास से दो कूट रचित नियुक्ति पत्र बरामद किए गए हैं।

पकड़ा गया आरोपी अनूप दुबे।
पकड़ा गया आरोपी अनूप दुबे। - फोटो : amar ujala
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

एसटीएफ ने परिवहन विभाग में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह का खुलासा किया है। इस गिरोह के एक सदस्य को सोमवार देर शाम को बीबीडी इलाके से दबोच लिया गया है। पकड़े गये आरोपी के पास से परिवहन विभाग के कूट रचित दो नियुक्ति पत्र बरामद हुए हैं। टीम के मुताबिक आरोपी खुद को परिवहन मंत्री का करीबी बताकर लोगों से ठगी करता था।



एसटीएफ डिप्टी एसपी धर्मेश कुमार शाही के मुताबिक पकड़ा गया आरोपी अनूप दुबे मूलरूप से कुशीनगर के खड्डा के टीचर कालोनी का रहने वाला है। वह बीबीडी इलाके में तिवारीगंज स्थित स्टार अपार्टमेंट में रहता है। पुलिस ने उसके पास से दो कूट रचित नियुक्ति पत्र, दो मोबाइल व नकदी बरामद किया है।


परिवहन मंत्री का करीबी बता लोगों को फंसाता था
एसटीएफ डिप्टी एसपी डीके शाही के मुताबिक आरोपी अनूप दुबे से पूछताछ की गई। उसने कहा कि खुद को परिवहन मंत्री का करीबी बताता था। जिससे लोग उसके झांसे में आ जाते थे। उसने परिवहन विभाग में परिचालक के पद पर स्थायी नियुक्ति के लिए कई लोगों से रकम वसूली है। सोमवार को दो बेरोजगार युवकों मऊ के दोहरीघाट मानिकपुर निवासी संदीप प्रजापति और घोसी के अमिला निवासी नरेश राय को बीबीडी कॉलेज के पास बुलाया था। एसटीएफ डिप्टी एसपी के मुताबिक कुछ युवकों ने नियुक्ति के नाम पर ठगी की शिकायत की थी। जिसके बाद आरोपी के मोबाइल को सविलांस पर लिया गया था। सोमवार को उसके पहुंचने पर टीम ने दबोच लिया।

तीन लाख रुपये में दिलाता था नौकरी
पुलिस टीम के मुताबिक आरोपी ने कुबूल किया कि उसने स्थायी परिचालक की नौकरी के लिए तीन लाख रुपये में सौदा किया था। जिसमें एक लाख रुपये एडवांस लिया था। बाकी दो लाख रुपये नियुक्ति पत्र देने के समय लेने की बात कही थी। पकड़ा गया आरोपी खुद को न्यूज-80 का पत्रकार बताता था। इसी के जरिए परिवहन मंत्री के कार्यालय में आता जाता था। जहां बेरोजगारों से संपर्क किया। डिप्टी एसपी धर्मेश शाही ने बताया कि आरोपी के खिलाफ बीबीडी थाने में कूट रचित दस्तावेज तैयार करने, जालसाजी, अमानत में ख्यानत सहित कई गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00