Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Lucknow ›   Akhilesh yadav promises 300 unit free electricity to people.

UP Election 2022: सपा चलाएगी '300 यूनिट बिजली पाओ, नाम लिखाओ छूट ना जाओ' अभियान, घर-घर पहुंचेंगे सपाई

अमर उजाला नेटवर्क, लखनऊ Published by: ishwar ashish Updated Tue, 18 Jan 2022 08:07 PM IST

सार

समाजवादी पार्टी के अभियान के तहत जो लोग 300 यूनिट फ्री बिजली चाहते हैं उनसे फार्म भरवाया जाएगा। जिनके पास बिजली का बिल है वो उसी नाम को लिखें और जो भविष्य में कनेक्शन लेना चाहते हैं वो राशन कार्ड के अनुसार नाम लिखवाएं।
अखिलेश यादव के साथ प्रेस कांफ्रेंस में स्वामी प्रसाद मौर्य व अब्दुल्ला आजम भी मौजूद रहे।
अखिलेश यादव के साथ प्रेस कांफ्रेंस में स्वामी प्रसाद मौर्य व अब्दुल्ला आजम भी मौजूद रहे। - फोटो : amar ujala
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

समाजवादी पार्टी मतदाताओं तक पहुंचने के लिए नई रणनीति अपनाई है। पार्टी ने 300 यूनिट बिजली मुफ्त पाओ, नाम लिखाओ अभियान शुरू किया है। इसके तहत पार्टी के कार्यकर्ता घर-घर जाकर फार्म भरवाएंगे। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मंगलवार को अभियान की घोषणा की।

विज्ञापन


समजवादी पार्टी 300 यूनिट बिजली मुफ्त देने की घोषणा कर चुकी है। इस घोषणा को वोटरों तक पहुंचाने के लिए फार्म भरवाने की रणनीति बनाई गई है। अभियान की घोषणा करते हुए सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बताया कि 19 जनवरी से हर कार्यकर्ता अपने-अपने बूथ के परिवारों के बीच जाकर फार्म भरवाएगा। परिवार के जिस मुखिया के नाम से कनेक्शन है, उसके नाम से फार्म भरा जाएगा। जिन लोगों के पास अभी तक कनेक्शन नहीं है और वे कनेक्शन लेने की योजना बना रहे हैं, उनके राशन कार्ड या आधार कार्ड में लिखे गए नाम फॉर्म में भरा जाएगा। यह सुविधा जल्द ही डिजिटल प्लेटफार्म पर भी उपलब्ध कराई जाएगी।


सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि बिजली मीटर में भी गड़बड़ी की शिकायत मिल रही है। सपा की सरकार बनने पर इन शिकायतों को दूर कराया जाएगा। अच्छी कंपनी का मीटर उपलब्ध कराया जाएगा। सपा अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि कई जगह से यह शिकायत मिल रही है कि बिजली के बिल तीन माह से रोके गए हैं। इसके पीछे सरकार की चाल है। वह बिजली का बिल बढ़ाकर भेजना चाहती है। जनता के गुस्से से बचने के लिए बिल नहीं भेजा जा रहा है। इसी तरह मकान बनाने के लिए कनेक्शन लेने पर कामर्शियल दर लगाई जाती है। सपा सरकार्र आइ तो इसमें भी सुधार किया जाएगा।

पहले भाजपा पर हो कार्रवाई, फिर हमारी बारी

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा नेताओं पर ज्यादा अपराधिक मुकदमें हैं। मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री पर गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज हैं। पहले भाजपा पर कार्रवाई हो फिर सपा की बारी आए। उन्होंने कहा कि भाजपा और कांग्रेस ने मिलकर अब्दुला आजम सहित अन्य वरिष्ठ नेताओं पर मुकदमे दर्ज कराएं हैं। सपा सरकार बनी तो राजनीतिक मुकदमें वापस लिए जाएंगे। वह मंगलवार को पार्टी कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

सपा की मान्यता खत्म करने संबंधित दायर याचिका के सवाल पर उन्होंने भाजपा पर निशाना साधा। कहा कि जिन लोगों पर मुकदमे थे, उन्हें भाजपा ने मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री क्यों बनाया? अगर गंभीर मुकदमों की बात हो तो भाजपा कभी चुनाव नहीं लड़ पाएगी। उन्होंने कहा कि सपा के कई लोगों पर झूठे मुकदमे हैं। पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं पर भी दर्ज है। रामपुर कें एक जिलाधिकारी ने खुद के आउट ऑफ  टर्न प्रमोशन के लिए मनमानी तरीके से मुकदमे दर्ज करवाए। नाहिद हसन पर दर्ज मुकदमे भी इसी श्रेणी के हैं। उन्होंने किसानों का मुद्दा उठाते हुए कहा कि भाजपा के लोग अन्नदाता को आतंकवादी कहते हैं तो किसानों द्वारा पैदा किया गया अनाज क्यों खाते हैं?  किसानों के धान की लूट हो रही है। अभी गन्ने का बकाया भुगतान नहीं हो रहा है। कमाई आधी हो गई है और  महंगाई दोगुनी हो गई है।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि उनके साथ कई दलों का गठबंधन है। यही वजह है कि भाजपा डर गई है। बगल में बैठे स्वामी प्रसाद मौर्य की ओर इशारा करते हुए कहा कि उनके आने के बाद से भाजपा की बौखलाहट बढ़ गई है। सपा अध्यक्ष ने कहा कि कृष्णा पटेल सपा के साथ आ गई हैं। उनके सपा गठबंधन में शामिल होते ही उनके साथ अन्याय होने लगा है। उनके ट्रस्ट की जांच शुरू हो गई। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकारी उपक्रमों को बेच रही है। नोटबंदी से प्रदेश की अर्थव्यवस्था कमजोर हुई है और बैंक बंद हो रही हैं। इस दौरान उन्होंने सपा शासनकाल में हुए विभिन्न कार्यों को दोहराते हुए कहा कि सपा सरकार बनी तो बीपीएड टीईटी, शिक्षामित्र समेत तमाम उन संगठनों की समस्या का समाधान होगा, जिन्होंने ज्ञापन दिया है। एचसीएल जैसी कंपनियों को प्रदेश में लाने क प्रयास किया जाएगा, जिससे यहां के लोगों को रोजगार मिल सके।

कोविड प्रोटोकाल का पालन करने की अपील
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पार्टी नेताओं एंव कार्यकर्ताओं से कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि कोविड का पालन नहीं करने पर भाजपा सरकार सियासी हथकंडा अपनाते हुए संबंधित क्षेत्र में चुनाव प्रभावित कर सकती है। इसलिए सावधानी बरतें। भाजपा की तैयारी थी कि प्रदेश का चुनाव प्रचार वर्चुअल चलाना है। यही वजह है कि उसने पहले अपनी तैयारी की। इसके बाद वर्चुअल रैली का आदेश जारी करा दिया।

अखिलेश से मिले अब्दुल्ला
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से मंगलवार सुबह अब्दुल्ला आजम ने मुलाकात की। दोनों के बीच करीब आधे घंटे बात हुई। बताया जा रहा है कि इस मुलाकात में कुछ सीटों को लेकर चर्चा हुई है। इसके बाद स्वामी प्रसाद मौर्य भी पहुंचे। फिर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, अब्दुल्ला आजम और स्वामी प्रसाद मौर्य संयुक्त रूप से प्रेस कांफ्रेंस में पहुंचे। इस दौरान स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ आए कई लोगों ने सपा की सदस्यता ली।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00