विज्ञापन
विज्ञापन

लखनऊ की बेटी आहना का इस बड़े अवॉर्ड के लिए हुआ चयन, अमिताभ बच्चन के साथ की थी कॅरिअर की शुरुआत

न्यूज डेस्क, अमर उजाला लखनऊ Updated Tue, 23 Apr 2019 03:19 PM IST
आहना कुमरा
आहना कुमरा - फोटो : amar ujala
ख़बर सुनें
बॉलीवुड में खास पहचान बना चुकीं लखनऊ की बेटी आहना कुमरा को एक बार फिर से ‘दादा साहब फाल्के एक्सीलेंस अवॉर्ड फॉर इमर्जिंग टैलेंट ऑफ द ईयर’ के लिए चुना गया है। उन्हें यह पुरस्कार लगातार दूसरे साल मिला है। बहुचर्चित फिल्म ‘लिपस्टिक अंडर माय बुर्का’ से चर्चा में आईं आहना की शुरुआती पढ़ाई लखनऊ के ला-मार्टिनियर गर्ल्स कॉलेज में हुई।
विज्ञापन
उनकी मां सुरेश बलियान कुमरा पुलिस अधिकारी थीं और पिता विदेश में रहते थे। आहना बताती हैं कि पारिवारिक वजहों से मुंबई शिफ्ट होना पड़ा, जहां पृथ्वी थियेटर से जुड़ाव हुआ। इसके बाद विसलिंग वुड जॉइन किया, जहां नसीरुद्दीन शाह और रत्ना पाठक शाह जैसे दिग्गजों से सीखने का मौका मिला।

बकौल आहना खुशनसीबी हैं कि नसीरुद्दीन शाह जैसे मंझे कलाकार के साथ फिल्म ‘ब्लू बेरी हंट’ और उसी समय अमिताभ बच्चन के साथ वेब सीरीज ‘युद्ध’ में उनकी बेटी के तौर पर काम करने से मेरे कॅरिअर की शुरुआत हुई। इससे पहले उन्हें 2015 में तीसरे नोएडा इंटरनेशनल फिल्म अवॉर्ड में फिल्म ‘साइबेरिया’ के लिए बेस्ट एक्ट्रेस का खिताब भी मिल चुका है। खेलकूद में अव्वल रहने वाली आहना प्रो कबड्डी लीग की मेजबानी भी कर चुकी हैं।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

देखें, इन फिल्मों और वेब सीरीज में दिखाई प्रतिभा

विज्ञापन

Recommended

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए
Lovely Professional University

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए

जानिए जल्दी से सरकारी नौकरी पाने के उपाय।
Astrology

जानिए जल्दी से सरकारी नौकरी पाने के उपाय।

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Dehradun

जेईई एडवांस प्रवेश परीक्षा 2019: प्लंबर के बेटे को मिली 1600वीं रैंक, इंजीनियर बनने का है सपना

प्रतिभा कभी संसाधनों की मोहताज नहीं होती। इन पंक्तियों को साकार किया है रेसकोर्स निवासी नवीन सैनी ने।

16 जून 2019

विज्ञापन

बिहार में दिमागी बुखार से अबतक 90 से ज्यादा बच्चों की मौत, आंकड़ों पर मंत्रीजी चुप

बिहार में अबतक 100 बच्चों की दिमागी बुखार से मौत हो चुकी है। तो वहीं मौत के आंकड़ों पर केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन ने चुप्पी साधी हुई है।

17 जून 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
सबसे तेज अनुभव के लिए
अमर उजाला लाइट ऐप चुनें
Add to Home Screen
Election