विज्ञापन

स्वामी विवेकानंद: ईश्वर है तो उसका बोध भी हो

स्वामी विवेकानंद Updated Fri, 12 Jan 2018 11:43 AM IST
swami vivekananda
swami vivekananda
ख़बर सुनें
प्राचीन संस्कृत शब्द 'योग' की परिभाषा चित्तवृत्ति निरोध कहकर की गई है। इसका अर्थ यह है कि योग वह विज्ञान है, जो हमें चित्त को परिवर्तनशील अवस्था से निरूद्ध कर, उसे वश में करने की शिक्षा देता है। पिछले दो हजार, चार हजार वर्षों से लोग नई-नई धर्म-व्यवस्थाओं का अध्ययन करते आ रहे हैं। जब वे तर्को से समाधान नही कर पाते, तो कहते हैं 'विश्वास करो।' यदि वे शक्तिशाली हुए, तो अपना विश्वास उन्होनें बलपूर्वक लादा, आज भी ऐसा हो रहा है। लेकिन कुछ ऐसे व्यक्ति हैं,  जो इस स्थिति से पूर्ण संतुष्ट नही हो पाते। वे पूछते हैं, 'क्या निस्तार का कोई मार्ग नही है?' भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान और गणित में, तो तुम इस प्रकार की अटकलबाजी नही करते। फिर क्या धर्म-विज्ञान इतर विज्ञानों की भांति नही हो सकता? 
विज्ञापन
विज्ञापन
उन्होनें इसे इस रूप में प्रस्तुत किया- यदि वास्तव में मनुष्य की आत्मा का अस्तित्व है, यदि वह अमर है, यदि सचमुच ईश्वर की सत्ता है और ईश्वर जगत का शासक है, तो उसका बोध यहीं होना चाहिए। निश्चय ही ईश्वर तथा स्वर्ग संबंधी सभी विश्वास संगठित धर्मो के  शूद्र विश्वास हैं। कोई भी वैज्ञानिक धर्म इस तरह की प्रस्तावना नही करता।

योग वह विज्ञान है, जो हमारे चित्त को इन परिवर्तनों में पड़ने से बचना सिखाता है। मान लो तुम मन को पूर्ण योगयुक्त अवस्था तक पहुंचाने में सफल हो गए। उस समय तुमने समस्या हल कर ली। तुम्हें बोध हो गया कि तुम क्या हो। सभी परिवर्तनों पर तुम्हारा प्रभुत्व हो गया। उसके पश्चात, तुम मन को विचरण करने दो। पर वह अब पहले जैसा मन नही रह गया। वह पूर्णतया तुम्हारे वश मे है। तुमने ईश्वर का दर्शन कर लिया। यह अनुमान का विषय नही रह गया।

किसी ग्रंथ या वेदों की नही, धर्मोपदेशों का वितंडावाद जैसी कोई कोई चीज नही रही। तुमने स्वयं साक्षात्कार कर लिया- मैं इन परिवर्तनों से परे आत्मा हूं। मैं परिवर्तन नही हूं, यदि मैं ऐसा होता, तो उन्हें रोक ना सकता। मैं परिवर्तनों को रोक सकता हूं, इसलिए मैं स्वयं परिवर्तन कदापि नही हो सकता। 

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Religion

16 दिसंबर से खरमास शुरू, एक महीने तक भूलकर भी न करें ये 3 काम

सूर्य वृश्चिचक राशि को छोड़कर धनु राशि में प्रवेश करते हैं। मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष की नवमी से मलमास शुरू हो जाएगा और 14 जनवरी 2019 पौष शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि तक रहेगा।

15 दिसंबर 2018

विज्ञापन

जानें भगवान भैरव ने क्यों काटा था ब्रह्मा जी का सिर

देवाधिदेव शिव का स्वरूप हैं भगवान कालभैरव। जानें किसलिए हुआ था कालभैरव का प्राकट्य और किस कामना से की जाती है उनकी पूजा —

30 नवंबर 2018

Related

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree