जालंधर बंध: रक्त संचार को सुचारू रखना है तो ये योगासन करें

डॉ. शैलेन्द्र शेखर Updated Sat, 27 Jan 2018 10:25 AM IST
jalandhara bandha
jalandhara bandha
ख़बर सुनें
चेहरे को नीचे झुकाकर ठुड्ढी को गर्दन से लगाने पर जालंधर बंध की स्थिति बनती है। इससे सुषुम्ना नाड़ी चलने लगती है और सिर के सबसे ऊपरी हिस्से में स्थित पीनियल ग्रंथि से स्रावित होने वाले हार्मोन का बहाव हृदय-क्षेत्र तक होने लगता है। इससे विशुद्धि चक्र भी जागृत होता है और हाइपोथैलियम ग्रंथि नियंत्रित होती है।
इससे आज्ञा चक्र और सहस्त्रार चक्रों पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। मन में दृढ़ता आती है। गर्दन की मांसपेशियों में रक्त संचार सही ढंग से होने लगता है। इसे नियमित करने से हमारे सिर, मस्तिष्क, आंख, नाक आदि का संचालन नियंत्रित रहता है।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all health tips in Hindi yoga tips in hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news from lifestyle and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Yoga and Health

फोन का अधिक इस्तेमाल करने से आंखों ही नहीं, गर्दन को पहुंचता है नुकसान, जानिए कैसे?

सावधान! आपका मोबाइल फोन आपको दे सकता है ये बीमारियां

18 मई 2018

Related Videos

जॉन अब्राहम ने सालों की मेहनत के बाद पाई ऐसी जबरदस्त बॉडी, वीडियो

जॉन अब्राहम ने सालों साल मेहनत कर और जिम में पसीना बहाकर जबरदस्त बॉडी हासिल की है।

25 दिसंबर 2017

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen