विज्ञापन
विज्ञापन

अभिभावकों को कब से कहा जा रहा है मॉम और डैड?

लाइफस्टाइल डेस्क, अमर उजाला Updated Thu, 20 Jun 2019 12:51 PM IST
मां
मां - फोटो : pixabay
ख़बर सुनें
मां, मॉम और मम्मी तीनों शब्दों में ही अपनत्व, स्नेह और वात्सल्य बसा है। ऐसे में कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप अपनी मां को मॉम कहते हैं या मम्मी, शब्दों के इस्तेमाल से स्नेह कम और बढ़ता नहीं है। लेकिन यह सवाल आपके भी जेहन में उठता होगा कि आखिर हम कब से अपने अभिभावकों को मॉम और डैड पुकारते आ रहे हैं। इन शब्दावलियों का इतिहास कितना पुराना है। आपके इस सवाल का जवाब भाषाविद् कैरी गिलोन के पास है।
विज्ञापन
भाषा विज्ञान में पीएचडी कैरी गिलोन कहती हैं कि मॉम शब्द का सबसे पहले प्रयोग 1867 में हुआ। इससे पहले तक 'मॉमी' कहा जाता था। 1844 तक मॉम शब्द प्रयोग में ही नहीं था उस वक्त बच्चे अपनी जन्मदाता मां के लिए 'मॉमी' शब्द का प्रयोग करते थे। इससे पहले 'मम्मा' कहा जाता था। 1570 में सारे बच्चे और जवान 'मम्मा' ही कहते थे। धीरे-धीरे वक्त गुजरा और भाषा का स्वरूप और शब्दों का उच्चारण बदलने के साथ ही और 'मम्मा', मॉमी और फिर मॉम में तब्दील हो गया।
 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

बायोमेडिकल एवं लाइफ साइंस में लेना है एडमिशन, ये है सबसे नामी संस्था
Dolphin PG

बायोमेडिकल एवं लाइफ साइंस में लेना है एडमिशन, ये है सबसे नामी संस्था

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को
Astrology Services

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें  लाइफ़ स्टाइल से संबंधित समाचार (Lifestyle News in Hindi), लाइफ़स्टाइल जगत (Lifestyle section) की अन्य खबरें जैसे हेल्थ एंड फिटनेस न्यूज़ (Health  and fitness news), लाइव फैशन न्यूज़, (live fashion news) लेटेस्ट फूड न्यूज़ इन हिंदी, (latest food news) रिलेशनशिप न्यूज़ (relationship news in Hindi) और यात्रा (travel news in Hindi)  आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़ (Hindi News)।  

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Relationship

चीन में शादी से भाग रहे हैं युवा लेकिन कोरिया में पिता बनने के लिए सरकार दे रही है पैसा

चीन में तलाक के मामले बढ़ रहे हैं और लाखों की संख्या में युवा शादी से दूरी बना रहे हैं। एक पूरी पीढ़ी ही विवाह के बंधन में बंधने से इंकार कर रही है। युवा 'एकाकी समाज' की तरफ तेजी से बढ़ रहे हैं जिसे लेकर चीन चिंतित है।

13 अगस्त 2019

विज्ञापन

केले के रेशे से बने इस पैड को 122 बार धोकर कर सकते हैं इस्तेमाल

आईआईटी दिल्ली के दो छात्रों ने केले के फाइबर से सेनेटरी पैड बनाने की तकनीक तैयार की है। इस पैड को 122 बार धोकर दो साल तक प्रयोग किया जा सकता है। बार-बार प्रयोग के बाद भी इससे किसी प्रकार के इंफेक्शन का खतरा नहीं है।

22 अगस्त 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree