आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Viral Kavya ›   viral social media shayari
viral social media shayari

वायरल

वायरल शायरी: यहां हर किसी को दरारों में झांकने की आदत है...

काव्य डेस्क, नई दिल्ली

1379 Views
1. 
पहली मोहब्बत पुराने मुकदमे की तरह होती है
न ख़त्म होती है और न इन्सान बाइज़्ज़त बरी होता है !!

2. 
फ़र्क़ बहुत है तेरी और मेरी तालीम में..
तूने उस्तादों से सीखा है मैंने हालातों से...

3. 
रेगिस्तान भी हरे हो जाते है,
जब अपने साथ अपने खड़े हो जाते हैं।

4. 

प्यार न हो 
मानो खेल हो शतरंज का 
मैं जीती बाजी हार गया 
उसकी दिलकश चाल देखकर।

5. 
यहां हर किसी को दरारों में झांकने की आदत है...
दरवाजे खोल दो, कोई पूछने भी नहीं आएगा...

6. 
जिंदगी भी कश्मीर की तरह हो गई है..
ख़ूबसूरत तो है.!.मगर बवाल बहुत हैं..! 

7. 
झुकने से 
रिश्ता हो गहरा तो
झुक जाना चाहिए
हर बार "आपको" ही 
झुकना पड़े तो 
रुक जाना चाहिए !!!!!!!

8.  
मशहूर हुए वो जो कभी क़ाबिल ना थे और तो और.... 
कमबख़्त मंजिल भी उन्हें मिली जो दौड़ में कभी शामिल ना थे...

9. 
तेरी आंखों में समा जाऊंगा काजल की तरह,
तू ढूंढती रह जायेगी मुझे पागल की तरह।

10. 
सोचते थे कि उनसे बिछड़े तो मर जाएंगे 
ग़ज़ब का वहम था, बुखार तक न आया।

(ये शायरी इंटरनेट की दुनिया में लोकप्रिय है। अगर आपको लेखक का नाम मालूम हो तो ज़रूर बताएं। शायरी के साथ शायर का नाम लिखने में हमें ख़ुशी होगी।)
 
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!