वो चलते चलते खुद 'उत्तर' हो गया - विनोद पुरोहित की 'संक्रांति' पर लिखी कविता

Vinod purohit hindi kavita on sankranti
                
                                                             
                            

वो चलते चलते खुद 'उत्तर' हो गया,
सवाल हुए मौन, साफ़ अस्तर हो गया।

वक़्त सरका, ज़िंदगी में कब घटेगी क्रांति,
दान-पुण्य से क्या,जब सोच बदतर हो गया।

आदर्श और स्वार्थ में छिड़ा है भारी टकराव,
कैसी हवा बही, हर ख़्वाब प्रस्तर हो गया।

मेले बिखरे, भीड़ में सन्नाटा पसर गया,
पतंगें गुम, रिश्तों का क्या स्तर हो गया।

धरती का ये सूरज कितना बेबस हो गया,
मरहम करते करते क्यों नश्तर हो गया।

तालीम बढ़ी, समझ का अरज छोटा हो गया,
पूरब का ये परचम क्यों निरुत्तर हो गया।

2 years ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X