'भगवान का नाम बाद में पहले डॉक्टर याद आता है'...

Hindi kavita for doctors
                
                                                             
                            ईश्वर के बाद किसी से आशा रखी जाती है वह है डॉक्टर
                                                                     
                            
भगवान का नाम बाद में पहले डॉक्टर याद आता है
कुछ हुआ तो बड़ी उम्मीद के साथ उसके पास
उसका केवल यह कहना कि चिन्ता की कोई बात नहीं
मन को सुकून मिल जाता है
आधी बीमारी भाग जाती है
प्रसव से लेकर मृत्यु तक साथ निभाने वाला
नन्हें दूधमुँहे बच्चे को भी उसके इलाज पर छोड़कर निश्चिंत
यहां सब कोई बराबर होता है
न कोई अमीर न कोई गरीब
न जात- पात न धर्म का बंधन
अपनी जीवन की डोर उस पर सौंपते हैं
रात हो या दिन हर वक्त इलाज को तत्पर
दंगा-फ़साद हो या दुर्घटना
लाइलाज बीमारी हो या सर्दी-जुखाम

वह भी अपनी पूरी ताकत और ज्ञान के साथ
अगर अच्छा हो जाए तो तमाम दुआएं मिलती है
हर शख्स धन्यवाद देता है
चेहरे खिल उठते हैं
पर अगर वह सफल न हुआ तो तोड़-फोड़ शुरु हो जाती है
वह ईश्वर तो नहीं है वह भी जब ऑपरेशन करता होगा
तो कामना करता होगा कि उसके हाथ कांपें नहीं
तभी तो कहता है ऑपरेशन सफ़ल है आगे ऊपर वाले के हाथ में है
जीवन बचाने वाले का धन्यवाद तो करना ही चाहिए
न सफ़ल, कोशिश तो की
डॉक्टर का सम्मान करना सभी की जिम्मेदारी है
आख़िर उसके भरोसे तो हम हैं
ऊपर वाला तो नहीं आ सकता
तभी तो उसने अपने प्रतिनिधि के रूप में उसे भेजा है


(यह कविता सोशल मीडिया में मिली है। अगर आपको इनके लेखक का नाम मालूम हो तो साझा करें। कविता के साथ कवि का नाम लिखने में हमें ख़ुशी होगी।)
2 years ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X