आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

Social Media Poetry: उन्हें अपेक्षा है, हम उनको महामिलन के गीत सुनाएं

सोशल मीडिया
                
                                                                                 
                            जिनके कारण रोया उपवन
                                                                                                

गंध  सुमन  से  दूर  हो गयी,
उन्हें अपेक्षा है ,हम  उनको 
महामिलन के  गीत  सुनाएं।

जिनके आने भर से सारी मुस्कानों  की हुयी  विदाई
जिनकी परछाईं से अक्सर घबरा जाती  है  शहनाई

भरी सभा में जिनके द्वारा 
गीतों के स्वर हुए उपेक्षित,
उन्हें अपेक्षा है, हम उनको 
उनके मन के गीत  सुनाएं।

जिनका हर इंगित शामिल है पांचाली के चीरहरण में
लाक्षागृह, अज्ञातवास में विपदा के हर एक चरण में आगे पढ़ें

2 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X