आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

Social Media Poetry: पसीने में भीगी हुई बनियान सा समय

सोशल मीडिया
                
                                                                                 
                            एक दिन जब सूरज उगेगा
                                                                                                

पसीने में भीगी हुई बनियान सा समय 
टूटी हुई चप्पल की तरह बीत रहा है 
समय किसी भी तरह बीत सकता है 
दीवार पर लगे जाले सा भी 
और गले में उगे काँटों से भी 

मेरी वह तस्वीर जिसमें मेरी सबसे निश्छल हँसी दर्ज़ है 
उसकी पीठ पर जम आया है एक घना अंधेरा 
कैसी तो त्रासदी है सिर्फ मुझे दिखता है यह अंधेरा 
और बाकी अभी भी उस हँसी में ही अटक जाते हैं 
जो अब उतनी निश्छल, उतनी सच्ची, उतनी पवित्र नहीं रही 

बचपन में आम खाकर गिठली फेंक दी थी ज़मीन पर 
अब वह पेड़ आँगन के बीचोंबीच उग आया है
इस बार भरे बंसत में काटा गया उसे 
कैसे कहा जा सकता है कि उसे काटना सिर्फ़ उसे ही काटना था 
आँगन के बीचोंबीच पालती मार कर बैठा था मेरा बचपन 
अब वहाँ उसकी स्मृति भी नहीं बैठी 
  आगे पढ़ें

2 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X