विज्ञापन

प्यार के बंधन रिश्ते देखो हाथ में कच्चे धागे देखो: वाजिद सहरी

उर्दू अदब
                
                                                                                 
                            प्यार के बंधन रिश्ते देखो 
                                                                                                

हाथ में कच्चे धागे देखो 

देखना है ग़म मेरा अगर 
उन को मुझ पर हँसते देखो 

उँगलियाँ छूते ही जल जाएँ 
फूल के अंदर शो'ले देखो 

होती है कैसे रुस्वाई 
उन की गली में जा के देखो  आगे पढ़ें

1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X