विज्ञापन

राही मासूम रज़ा: इस सफ़र में नींद ऐसी खो गई, हम न सोए रात थक कर सो गई

rahi masoom raza ghazla is safar mein neend aisi kho gayi
                
                                                                                 
                            

इस सफ़र में नींद ऐसी खो गई


हम न सोए रात थक कर सो गई

दामन-ए-मौज-ए-सबा ख़ाली हुआ
बू-ए-गुल दश्त-ए-वफ़ा में खो गई

हाए इस परछाइयों के शहर में
दिल सी इक ज़िंदा हक़ीक़त खो गई

हम ने जब हँस कर कहा मम्नून हैं
ज़िंदगी जैसे पशेमाँ हो गई

1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X