क़मर जलालाबादी के मशहूर शेर....

क़मर जलालाबादी के मशहूर शेर...
                
                                                             
                            9 मार्च 1917 को पंजाब के अमृतसर के पास जलालाबाद में जन्मे कमर जलालाबादी का असली नाम ओम प्रकाश भंडारी था लेकिन वो जाने गए 'क़मर' के नाम से ही। उनका नाम 'क़मर' कैसे हो गया, इसके पीछे भी एक कहानी है। दरअसल कमर साहब बचपन से शायराना मिज़ाज के थे। 
                                                                     
                            

काव्य प्रतिभा उनमें कूट-कूटकर भरी थी, लेकिन उनके घर-परिवार की तरफ से उन्हें कविताई करने के लिए कोई प्रोत्साहन नहीं मिलता था। कमर थे कि 7 लाल की उम्र में ही उर्दू में कविता लिखने लगे थे। पेश है क़मर जलालाबादी के कुछ मशहूर शेर....

चाहा तुझे तो ख़ुद से मोहब्बत सी हो गई 
खोने के बाद मिल गई अपनी ख़बर मुझे 

तेरे ख़्वाबों में मोहब्बत की दुहाई दूंगा 
जब कोई और न होगा तो दिखाई दूंगा 
  आगे पढ़ें

2 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X