ये समुंदर है किनारे ही किनारे जाओ: कलीम आजिज़

ये समुंदर है किनारे ही किनारे जाओ: कलीम आजिज़
                
                                                             
                            ये समुंदर है किनारे ही किनारे जाओ 
                                                                     
                            
इश्क़ हर शख़्स के बस का नहीं प्यारे जाओ 

यूँ तो मक़्तल में तमाशाई बहुत आते हैं 
आओ उस वक़्त कि जिस वक़्त पुकारे जाओ 

दिल की बाज़ी लगे फिर जान की बाज़ी लग जाए 
इश्क़ में हार के बैठो नहीं हारे जाओ 

काम बन जाए अगर ज़ुल्फ़-ए-जुनूँ बन जाए 
इस लिए इस को सँवारो कि सँवारे जाओ  आगे पढ़ें

4 weeks ago
Comments
X