आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

कलीम आजिज़: तुम गुल थे हम निखार अभी कल की बात है

उर्दू अदब
                
                                                                                 
                            तुम गुल थे हम निखार अभी कल की बात है 
                                                                                                

हम से थी सब बहार अभी कल की बात है 

बेगाना समझो ग़ैर कहो अजनबी कहो 
अपनों में था शुमार अभी कल की बात है 

आज अपने पास से हमें रखते हो दूर दूर 
हम बिन न था क़रार अभी कल की बात है 

इतरा रहे हो आज पहन कर नई क़बा 
दामन था तार तार अभी कल की बात है  आगे पढ़ें

1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X