आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

Independence Day: ख़ुशियों के गीत गाओ कि पंद्रह अगस्त है-मफ़तूं कोटवी

,मफ़तूं कोटवी की शायरी ,मफ़तूं कोटवी की नज़्म ,उर्दू शायरी ,स्वंत्रता दिवस पर नज़्म ,maftun kotvi
                
                                                                                 
                            ख़ुशियों के गीत गाओ कि पंद्रह अगस्त है 
                                                                                                

सब मिल के मुस्कुराओ कि पंद्रह अगस्त है 

हर सम्त क़हक़हे हैं चराग़ाँ है हर तरफ़ 
तुम ख़ुद भी जगमगाओ कि पंद्रह अगस्त है 

हर गोशा-ए-वतन को निखारो सँवार दो 
महकाओ लहलहाओ कि पंद्रह अगस्त है 

आज़ादी-ए-वतन पे हुए हैं कई निसार 
ख़ातिर में इन को लाओ कि पंद्रह अगस्त है 

रक्खो न सिर्फ़ ख़ंदा-ए-गुल हैं निगाह में 
काँटों को भी हँसाओ कि पंद्रह अगस्त है 

रूहें अमान-ओ-अम्न की प्यासी हैं आज भी 
प्यास इन की अब बुझाओ कि पंद्रह अगस्त है 

शम्अ' ख़ुलूस-ओ-उन्स की मद्धम है रौशनी 
लौ और कुछ बढ़ाओ कि पंद्रह अगस्त है 

ये अहद तुम करो कि फ़सादात फिर न हों 
हाँ आग ये बुझाओ कि पंद्रह अगस्त है 

खाओ क़सम कि ख़ून पिलाएँगे मुल्क को 
दिल से क़सम ये खाओ कि पंद्रह अगस्त है 

हर हादसे में अहल-ए-वतन मुस्तइद रहें 
वो वलवला जगाओ कि पंद्रह अगस्त है 

ऊँचा रहे शराफ़त-ओ-अख़्लाक़ का अलम 
परचम बुलंद उठाओ कि पंद्रह अगस्त है 

हो दर्द-ए-दिल में जज़्बा-ए-हुब्ब-ए-वतन फ़ुज़ूँ 
'मफ़्तूँ' क़लम उठाओ कि पंद्रह अगस्त है 
 
3 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X