'प्लूटो' से गुलज़ार की चुनिंदा नज़्में

gulzar selected nazm from book pluto
                
                                                             
                            मैं अगर छोड़ न देता, तो मुझे छोड़ दिया होता, उसने!
                                                                     
                            

इश्क़ में लाज़मी हैं, हिज्रो-विसाल मगर
इक अना भी तो है, चुभ जाती है पहलू बदलने में कभी
रात भर पीठ लगाकर भी तो सोया नहीं जाता! आगे पढ़ें

7 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X