हमने सब शेर में संवारे थे, हमसे जितने सुख़न तुम्हारे थे - फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

faiz ahmed faiz ghazal humne sab sher mein sanvaare the
                
                                                             
                            
हम ने सब शेर में संवारे थे
हम से जितने सुख़न तुम्हारे थे

रंग-ओ-ख़ुशबू के हुस्न-ओ-ख़ूबी के
तुम से थे जितने इस्तिआरे थे

तेरे क़ौल-ओ-क़रार से पहले
अपने कुछ और भी सहारे थे

जब वो लाल-ओ-गुहर हिसाब किए
जो तिरे ग़म ने दिल पे वारे थे

मेरे दामन में आ गिरे सारे
जितने तश्त-ए-फ़लक में तारे थे

उम्र-ए-जावेद की दुआ करते
'फ़ैज़' इतने वो कब हमारे थे 
3 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X