विज्ञापन

हर शय आनी-जानी है जीवन बहता पानी है: आनन्द सरूप अंजुम

उर्दू अदब
                
                                                                                 
                            हर शय आनी-जानी है 
                                                                                                

जीवन बहता पानी है 

हिज्र की रातें वस्ल के दिन 
इक दिलचस्प कहानी है 

हुस्न है फ़ानी इश्क़ मिरा 
अन-मिट है ला-फ़ानी है 

जो ना-अहल है उन हाथों में 
फूलों की निगरानी है 

रहते एक गली में हैं 
दोनों को हैरानी है  आगे पढ़ें

5 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X