आज का शब्द: यत्न और महावीर प्रसाद ‘मधुप’ की रचना- कड़वी बातों के समान होता कोई आघात नहीं

आज का शब्द- यत्न और महावीर प्रसाद ‘मधुप’ की रचना: कड़वी बातों के समान होता कोई आघात नहीं
                
                                                             
                            यत्न यानि प्रयास, कोशिश, उपाय या रक्षा का प्रबन्ध। अमर उजाला 'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- यत्न। प्रस्तुत है महावीर प्रसाद 'मधुप' की रचना: कड़वी बातों के समान होता कोई आघात नहीं
                                                                     
                            

कड़वी बातों के समान होता कोई आघात नहीं
बिना यत्न के बन पाती है कोई बिगड़ी बात नहीं

संभव नहीं कदाचित जग में तम के बाद प्रकाश न हो
प्रात न जिसके साथ जुड़ा हो, ऐसी कोई रात नहीं

कठपुतली यह दुनिया सारी नटनागर के हाथों की
उसकी चाहत बिना कभी हिल पाता कोई पात नहीं आगे पढ़ें

6 days ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X