आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

आज का शब्द: वियोग और गोपाल सिंह नेपाली की कविता 'मैं विद्युत में तुम्हें निहारूँ'

aaj ka shabd viyog gopal singh nepali hindi kavita main vidyut mein tumhein niharun
                
                                                                                 
                            

हिंदी हैं हम शब्द-श्रृंखला में आज का शब्द है - वियोग जिसका अर्थ है 1. विरह; बिछोह 2. अलगाव 3. अभाव 4. छुटकारा। कवि गोपाल सिंह नेपाली ने अपनी कविता में इस शब्द का प्रयोग किया है। 



मैं विद्युत् में तुम्हें निहारूँ
नील गगन में पंख पसारूँ;
दुःख है, तुमसे बिछड़ गया हूँ
किन्तु तुम्हारी सुधि न बिसारूँ।

उलझन में दुःख में वियोग में
अब तुम याद बहुत आती हो;
घनी घटा में तुमको खोजूँ
मैं विद्युत् में तुम्हें निहारूँ।

जब से बिछुड़े हैं हम दोनों
मति-गति मेरी बदल गई है;
पावस में हिम में बसंत में
हँसते-रोते तुम्हें पुकारूँ।

तब तक मन मंदिर में मेरे
होती रहे तुम्हारी पग-ध्वनि;
तब तक उत्साहित हूँ, बाजी
इस जीवन की कभी न हारूँ।

तुम हो दूर दूर हूँ मैं भी
जीने की यह रीति निकालें,
तुम प्रेमी हो-प्रेम पसारो
मैं प्रेमी हूँ-जीवन वारूँ।

3 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X