आज का शब्द: रौद्र और अरुण कमल की कविता संवत

aaj ka shabd raudra arun kamal hindi kavita samvat
                
                                                             
                            हिंदी हैं हम शब्द-श्रृंखला में आज का शब्द है रौद्र जिसका अर्थ है रुद्र संबंधी, प्रचंड या उग्र। कवि अरुण कमल ने अपनी कविता में इस शब्द का प्रयोग किया है। 
                                                                     
                            

तप रहा ब्रह्मांड
ऐसा रौद्र
ऐसी धाह
रेत इतनी तप्त कि तलवे उठ रहे पड़ते,
रेंगनी कांटों के फूल पीले
और उनकी भाप भरी गंध
और गिरगिटों का रंग धूसर

मैं तो नदी की खोज में चला था
ज्वर से तपते बच्चों के वास्ते मैं तो
रेत में छिपे जल को टेरता चला था
और यहां मरघता पर बैठा हूं
चिताओं की अग्नि तापता। 
2 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X