आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

आज का शब्द: निर्विकार और अज्ञेय की कविता- है, अभी कुछ और जो कहा नहीं गया

आज का शब्द
                
                                                                                 
                            'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- निर्विकार, जिसका अर्थ है- जिसमें कोई विकार न हो, जिसमें कोई परिवर्तन न होता हो, अपरिवर्तित। प्रस्तुत है अज्ञेय की कविता-  है, अभी कुछ और जो कहा नहीं गया
                                                                                                


है, अभी कुछ और जो कहा नहीं गया। 

उठी एक किरण, धाई, क्षितिज को नाप गई, 
सुख की स्मिति कसक भरी, निर्धन की नैन-कोरों में काँप गई, 
बच्चे ने किलक भरी, माँ की वह नस-नस में व्याप गई। 
अधूरी हो, पर सहज थी अनुभूति : 
मेरी लाज मुझे साज बन ढाँप गई— 
फिर मुझे बेसबरे से रहा नहीं गया। 
पर कुछ और रहा जो कहा नहीं गया।  आगे पढ़ें

2 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X