विज्ञापन

आज का शब्द: मुक्ति और विमल कुमार की कविता- बाँधो नहीं किसी को नाव की तरह

आज का शब्द
                
                                                                                 
                            अमर उजाला 'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- मुक्ति, जिसका अर्थ है- बंधन आदि से छूटने की अवस्था या भाव, आज़ादी। प्रस्तुत है विमल कुमार की कविता- बाँधो नहीं किसी को नाव की तरह
                                                                                                


इतना प्रेम किसी से न करो
ज़िन्दगी जीना मुश्किल हो जाए
तुम्हारे लिए
इतनी घृणा भी न करो
किसी से
चेहरा देखना पसन्द न हो
उसका
इतना मतभेद भी ठीक नहीं है
नफ़रत हो जाए
तुम्हें किसी से आगे पढ़ें

5 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X