आज का शब्द: म्लान और गिरिजाकुमार माथुर की कविता कौन थकान हरे जीवन की

aaj ka shabd mlaan girijakumar mathur hindi kavita kaun thakaan hare jeevan ki
                
                                                             
                            

हिंदी हैं हम शब्द-श्रृंखला में आज का शब्द है म्लान जिसका अर्थ है 1. मलिन; मैला 2. दुर्बल 3. मुरझाया हुआ। कवि गिरिजाकुमार माथुर ने अपनी कविता में इस शब्द का प्रयोग किया है। 

कौन थकान हरे जीवन की?
बीत गया संगीत प्यार का,
रूठ गयी कविता भी मन की।
वंशी में अब नींद भरी है,
स्वर पर पीत सांझ उतरी है
बुझती जाती गूंज आख़िरी
इस उदास बन पथ के ऊपर
पतझर की छाया गहरी है,
अब सपनों में शेष रह गई
सुधियां उस चंदन के बन की।

रात हुई पंछी घर आए,
पथ के सारे स्वर सकुचाए,
म्लान दिया बत्ती की बेला
थके प्रवासी की आंखों में
आंसू आ आ कर कुम्हलाए,
कहीं बहुत ही दूर उनींदी
झांझ बज रही है पूजन की।
कौन थकान हरे जीवन की? 

1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X