आज का शब्द: जीवंत और अनुज लुगुन की कविता-औरत की प्रतीक्षा में चाँद

आज का शब्द
                
                                                             
                            जीवंत यानी जिसमें प्राण हो, सजीवता या जीता- जागता। अमर उजाला 'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- जीवंत। प्रस्तुत है अनुज लुगुन की कविता: औरत की प्रतीक्षा में चाँद
                                                                     
                            

उस रात आसमान को एकटक ताकते हुए 
वह ज़मीन पर अपने बच्चों 
और पति के साथ लेटी हुई थी 
उसने देखा आसमान 
स्थिर, शांत और सूनेपन से भरा है 
तब वह कुछ सोचकर 
अपनी चूड़ियाँ, बालियाँ, 
बिंदी और थोड़ा-सा काजल 
उसके बदन पर टाँक आई 
और आसमान पहले से ज़्यादा सुंदर हो गया  आगे पढ़ें

23 hours ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X