विज्ञापन

आज का शब्द: गुठली और स्वप्निल श्रीवास्तव की कविता- इसके अन्दर सोया हुआ है एक वृक्ष

आज का शब्द
                
                                                                                 
                            अमर उजाला 'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- गुठली, जिसका अर्थ है- किसी फल का बीज जो आकार में बड़ा और कड़ा हो, जैसे आम की गुठली। प्रस्तुत है स्वप्निल श्रीवास्तव की कविता- इसके अन्दर सोया हुआ है एक वृक्ष
                                                                                                


यह बेकार की पड़ी हुई
चीज़ नहीं है
मिट्टी-पानी मिलते ही
इसके अन्दर से उगने लगेगा
एक पौधा
धूप पाकर होगा छतनार

इसके अन्दर सोया हुआ है
एक वृक्ष
जिसके अन्दर फलों का खजाना
छिपा हुआ है आगे पढ़ें

5 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X