विज्ञापन

मोहन राकेश: आषाढ़ का एक दिन से चुनिंदा कोट्स

Mohan rakesh ashaad ka ek din selected quotes
                
                                                                                 
                            जीवन की स्थूल आवश्यकताएं ही तो सब-कुछ नहीं हैं, इनके अतिरिक्त भी तो बहुत कुछ है।
                                                                                                


मां का जीवन भावना नहीं, कर्म है।

एक बाण प्राण ले सकता है तो ऊंगलियों का कोमल स्पर्श प्राण दे भी सकता है। 

किसी संबंध से बचने के लिए अभाव जितना बड़ा कारण होता है, अभाव का पूर्ति उससे बड़ा कारण बन जाती है।

सम्मान प्राप्त होने पर सम्मान के प्रति प्रकट की गई उदासीनता व्यक्ति के महत्व को बढ़ा देती है।

जो व्यक्ति कुछ देता है धन हो या सम्मान हो, वह अपना मन भी बदल सकता है। 

कोई भूमि ऐसी नहीं जिसके अंतर में कोमलता न हो।  

व्यक्ति किसी संबंध को ऐसे नहीं तोड़ता. विशेष रूप से वह जिसे किसी कवि का कोमल ह्रदय प्राप्त हो।

जीवन एक भावना है - बहुत कोमल भावना।

एक दोष गुणों के समूह में उसी तरह छिप जाता है जैसे चाँद की किरणों में कलंक, परंतु दारिद्रय नहीं छिपता। 
5 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X