शायरी की तालीम तो नाना से हासिल की, लेकिन इश्क़ का सबक़ तो उसने ही पढ़ाया

शायरी की तालीम तो नाना से हासिल की, लेकिन इश्क़ का सबक़ तो उसने ही पढ़ाया
                
                                                             
                            हिंदी सिनेमा में कई ऐसे गीतकार हुए जो अपने नायाब गीतों के ज़रिए आज भी लोगों के मन में ज़िंदा हैं। हसरत जयपुरी भी इन्हीं गीतकारों की फेहरिस्त में शामिल हैं। शब्दों से आशिक़ और माशूक़ के मन को बेक़रार करने का हुनर अगर किसी के गीतों में नज़र आता है, तो वह हसरत ही हैं। 'बरसात' फ़िल्म के लिए लिखा उनका पहला गाना, 'जिया बेक़रार है, छाई बहार है'। आज भी मक़बूल है। इसके अलावा हसरत जयपुरी के चमन में बहारों फूल बरसाओ..., सुन साहिबा सुन..., हम दर्द के मारों का इतना फ़साना है..., इक बेवफ़ा से प्यार किया..., जाने कहां गए वो दिन... अजी अब रूठ कर कहां जाइएगा..., तेरा मेरा प्यार अमर... और बदन पे सितारे लपेटे हुए जाने तमन्ना किधर जा रही हो... जैसे गीत हैं जिनकी महक बरक़रार है। 
                                                                     
                            

हालांकि, गीतकार बनने का उनका सफ़र कई मंज़िलों को तय करने के बाद पूरा हुआ। काम की तलाश में जयपुर से मुंबई आए हसरत ने क़रीब आठ साल मायानगरी में बस कंडक्टरी भी की। लेकिन, हसरत के शायर बनने की एक दिलचस्प कहानी है।   आगे पढ़ें

1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X