जब फ़िराक़ साहब के सीने पर एक गुण्डे ने चाकू रख दिया, फिर उन्होंने जो कहा...

Firaq Gorakhpuri
                
                                                             
                            फ़िराक़ साहिब की सारी ज़िंदगी तन्हाई में गुज़री। आख़िरी ज़माने में तो घर में नौकरों के सिवा और कोई नहीं रहता था। कभी कभी तो तन्हा इतने बड़े घर में ख़ामोश बैठे हुए सिगरेट पिया करते थे। ख़ास तौर से शाम को ये तन्हाइयाँ दर्दनाक हद तक गहरी हो जाती थीं। 
                                                                     
                            

एक ऐसी ही शाम को नौकर बाज़ार गया हुआ था। एक ग़ुंडा मौक़ा ग़नीमत समझ कर दबे-पाँव घर में घुस आया। उसने चाक़ू निकाल कर फ़िराक़ साहिब के सीने पर रख दिया और रक़म का तलबगार हुआ।  आगे पढ़ें

3 weeks ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X