आपका शहर Close
Kavya Kavya
Hindi News ›   Kavya ›   Viral Kavya ›   viral kawita : jinda rawan bahut pade hein
viral kawita  : jinda rawan bahut pade hein

वायरल

वायरल कविता : ज़िंदा रावण बहुत पड़े हैं।

sri Ashish

31 कविताएं

156 Views
अर्थ हमारे व्यर्थ हो रहे, पापी पुतले अकड़ खड़े हैं,
काग़ज़ के रावण मत फूँकों, ज़िंदा रावण बहुत पड़े हैं।
कुंभ-कर्ण तो मदहोशी हैं, मेघनाथ भी निर्दोषी है,
अरे तमाशा देखने वालों, इनसे बढ़कर हम दोषी हैं।
अनाचार में घिरती नारी, हाँ दहेज की भी लाचारी,
बदलो सभी रिवाज पुराने, जो घर-घर में आज अड़े हैं।
काग़ज़ के रावण मत फूँकों, ज़िंदा रावण बहुत पड़े हैं।।
सड़कों पर कितने खर-दूषण, झपट ले रहे औरों का धन।
मायावी मारीच दौड़ते, और दुखाते हैं सब का मन।
सोने के मृग-सी है छलना, दूभर हो गया पेट का पलना।
गोदामों के बाहर कितने, मकरध्वज से जाल कड़े हैं।
काग़ज़ के रावण मत फूँकों, ज़िंदा रावण बहुत पड़े हैं।।
लखनलाल ने सुनो ताड़का, आसमान पर स्वयं चढ़ा दी।
भाई के हाथों भाई के, राम राज्य की अब बरबादी।
हत्या, चोरी, राहजनी है, यह युग की तस्वीर बनी है,
आज जाति अरु धर्म मे देखो,
आपस मे ही बड़ी ठनी है।
न्याय, व्यवस्था में कमज़ोरी, आतंकों के स्वर तगड़े हैं।
काग़ज़ के रावण मत फूँकों, ज़िंदा रावण बहुत पड़े हैं।।
बाली जैसे कई छलावे, आज हिलाते सिंहासन को,
अहिरावण आतंक मचाता, भय लगता है अनुशासन को।
खड़ा विभीषण सोच रहा है, अपना ही सर नोच रहा है।
नेताओं के महाकुंभ में, सेवा नहीं प्रपंच बड़े हैं।
काग़ज़ के रावण मत फूँकों, ज़िंदा रावण बहुत पड़े हैं।।
सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Other Properties:

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Your Story has been saved!