लाश तक घर को न लौटी ऐसा मक़तल भा गया

असरारूल हक मजाज़
                
                                                             
                            लाश तक  घर को न लौटी ऐसा मक़तल भा गया!
                                                                     
                            
मजाज़ जैसे मुकम्मल शायर पर एक अधूरा मज़मून! 
मजाज़ मर गए! 
मजाज़ ने खुदकुशी की!
या मजाज़ का कत्ल किया गया...  

दरअसल यह तीन अलग अलग खबरें थीं और इन तीन ख़बरों को एक ही ख़बर की कब्र में दफन कर दिया गया।  आगे पढ़ें

मौत के सिलसिले पर कुछ बेहद असरदार पंक्तियां लिखी हैं... 

3 weeks ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X